Breaking News

ब्रिटेन के आम चुनावों के नतीजों में ऋषि सुनक की पार्टी को अभी तक घोषित 137 में से केवल 14 सीटें मिली,लेबर पार्टी 108 जीती,हार के कारण ये रहे

@शब्द दूत ब्यूरो (05 जुलाई 2024)

ब्रिटेन में हुए आम चुनाव के नतीजों में निवर्तमान प्रधानमंत्री ऋषि सुनक की कंजरवेटिव पार्टी को तगड़ा झटका लगा है। अभी तक  137 सीटों पर जारी हुए नतीजों में सुनक की कंजर्वेटिव पार्टी 14 और लेबर पार्टी 108 सीटों पर जीत दर्ज कर चुकी है।लेबर पार्टी से प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार कीर स्टार्मर भी लंदन की होलबोर्न और सेंट पैनक्रास सीट पर जीत दर्ज कर चुके हैं। एक्जिट पोल में भी सुनक की पार्टी की करारी हार का अनुमान लगाया जा रहा था।

इससे पहले जब ऋषि सुनक की पार्टी 2019 में  सत्ता में आई थी  तब 67.3% वोटिंग हुई थी और सुनक की कंजर्वेटिव पार्टी को 365, कीर स्टार्मर की लेबर पार्टी को 202 और लिबरल डेमोक्रेट्स को 11 सीटें मिली थीं। इस बार लगभग सभी सर्वे में कंजर्वेटिव पार्टी की करारी हार की आशंका जताई गई थी। यूगोव के सर्वे में लेबर पार्टी को 425, कंजर्वेटिव को 108, लिबरल डेमोक्रेट को 67, SNP को 20 सीटें मिलने का अनुमान लगाया गया है। ऋषि सुनक की कंजर्वेटिव पार्टी बीते 14 सालों से सत्ता में रही। हालांकि, पार्टी के शीर्ष नेतृत्व में लगातार उथल-पुथल की स्थिति बनी हुई थी। कंजर्वेटिव पार्टी ने पिछले 5 सालों में 4 बार प्रधानमंत्री बदला है।

न्यूज एजेंसी ए एफ पी की रिपोर्ट के अनुसार, चुनाव परिणाम से पहले गुरुवार को लंदन के शेयर बाजार और पाउंड में डॉलर के मुकाबले बढ़त दर्ज की गई। इसकी वजह कंजर्वेटिव पार्टी की हार का अनुमान बताया जा रहा है।

इस बार ब्रिटेन में राजनीतिक दलों ने सबसे अधिक भारतवंशी उम्मीदवारों को टिकट दिया था। इस बार कुल 107 ब्रिटिश इंडियन कैंडिडेट्स को टिकट मिला। लेबर पार्टी ने सबसे अधिक 33 उम्मीदवारों को टिकट दिया। वही, कंजर्वेटिव पार्टी ने कुल 30 उम्मीदवारों को टिकट दिया।ब्रिटेन की राजनीति में अब तक के सबसे युवा और भारतीय मूल के पहले प्रधानमंत्री ऋषि सुनक की लोकप्रियता कम होने की सबसे बड़ी वजह वहां की अर्थव्यवस्था रही है।

दरअसल, अपने डेढ़ साल के कार्यकाल में सुनक इकोनॉमी को पटरी पर लाने में नाकाम रहे हैं। BBC की रिपोर्ट के मुताबिक, देश में अमीरों और गरीबों के बीच का फासला लगातार बढ़ता जा रहा है।

इसकी वजह से लोगों के जीवन जीने के स्तर में गिरावट आई है। 6.70 करोड़ की आबादी वाले ब्रिटेन में प्रति व्यक्ति आय 38.5 लाख रुपए है। यहां महंगाई दर 2% है, तो वहीं खाद्य महंगाई दर 1.7% है।

ब्रिटेन के 70 साल के इतिहास में टैक्स दरें सबसे ज्यादा हैं। सरकार के पास जनता पर खर्च करने के लिए पैसे नहीं हैं। इसकी वजह से पब्लिक सर्विस सिस्टम ठप होता जा रहा है।

Website Design By Mytesta +91 8809666000

Check Also

वन वे ट्रैफिक के चलते भीषण दुर्घटना,दो बसों की आमने-सामने टक्कर, 4 यात्रियों की मौत,60 घायल

🔊 Listen to this वन वे ट्रैफिक के चलते हुई दुर्घटना @शब्द दूत ब्यूरो (22 …

googlesyndication.com/ I).push({ google_ad_client: "pub-