Breaking News

संसद में सेंधमारी पर रामधुन की जरूरत@सियासत में अदावत का रंग, वरिष्ठ पत्रकार राकेश अचल की खरी खरी

राकेश अचल,
वरिष्ठ पत्रकार जाने माने आलोचक

दूसरे लोगों का कोई पता नहीं किन्तु मै राजनीति से आजिज आ चुका हूँ ,राजनीति इतनी तेजी से गुलाटी खाती है कि मेरे जैसा आदमी कोई दूसरे मुद्दों पर बात कर ही नहीं पा रहा। अब संसद में सेंधमारी की घटना पर कांग्रेस के नेता राहुल गांधी के बयान पर राजनीति शुरू हो गयी है। सत्ता रूढ़ दल भाजपा चाहता है कि राहुल गांधी को संसद की सेंधमारी की घटना पर राजनीति नहीं करना चाहिए । जाहिर है कि भाजपा इस घटना पर राजनीति नहीं ‘ रामधुन ‘ की अपेक्षा करती है विपक्ष से।

सभी ने कहा कि संसद में सेंधमारी ‘ की घटना दुर्भाग्यपूर्ण ही नहीं बल्कि संसद की सुरक्षा व्यवस्था की पोल खोलने वाली है लेकिन सरकार संसद की सुरक्षा व्यवस्था में झोल की जिम्मेदारी लेने के बजाय इस बात पर जोर दे रही है कि इस घटना पर राजनीति नहीं की जाना चाहिए। सवाल ये है कि क्या सेंधमारी करने वाले आरोपियों ने संसद में उन मुद्दों को लेकर प्रदर्शन नहीं किया जो बेरोजगारी और निरंकुशता से जुड़े हैं ? सरकार प्रदर्शनकारियों के मुद्दों पर धूल डालने के लिए इस विषय पर बोलने वाली हर आवाज को देशद्रोह बताने पर आमादा दिखाई दे रही है। मामले की जांच विशेष जांच दल कर रहा है लेकिन लोकसभा अध्यक्ष इस मुद्दे पर बहस की मांग करने वाले सांसदों को निलंबित कर रहे हैं। लोकसभा अध्यक्ष भी सरकार के सुर में सुर मिलाकर सांसदों को पत्र लिखकर संसद में सेंधमारी पर राजनीति न करने का आग्रह कर रहे हैं।

देश की जनता के सामने रोज नए-नए तिलिस्म खड़े करने वाली सरकार संसद में सेंधमारी की अप्रत्याशित घटना से हतप्रभ है । सरकार की तमाम योजनाओं पर पानी फिर गया है । अगले महीने अयोध्या में हने वाले मंदिर प्रहसन की तैयारी धूमिल हो गयी है। आरोपियों ने प्रारम्भिक पूछताछ में जो बताया है उसमें कोई बात ऐसी नहीं है जो आतंकवाद से जुडी है । आरोपियों का मकसद नींद में सोई संसद को जगाने और सत्ता के मद में डूबी सरकार को झकझोरने की है। लेकिन सरकार ये मानने वाली नहीं है। सरकार चाहती है कि देश में कोई भी इन आरोपियों के पीछे खड़ा न हो ,इनका समर्थन न करे।

संसद में सेंधमारी के मसले पर सत्तारूढ़ दल जिस तरह से विपक्ष के प्रति आक्रामक है उससे लगता है कि राजनीति विपक्ष नहीं बल्कि सरकार कर रही है। मामला अब जांच के दौर से गुजर रहा है उसे लेकर संसद के भीतर सांसद और संसद के बाहर गोदी मीडिया सबसे ज्यादा आक्रामक है। गोदी मीडिया को आरोपियों द्वारा उठाये गए मुद्दों पर बहस नहीं चाहती,गोदी मीडिया सरकार के सुर में सुर मिलकर अपना पुरुषार्थ दिखा रही है। संसद में इस तरह की घटना 94 साल पहले दिल्ली में हुई थी । लेकिन संसद पर हमला 21 साल पहले हुआ था। 13 दिस्मबर की सेंधमारी को 21 साल पहले संसद में हुए हमले से नहीं तौला जा सकता।

सत्तापक्ष सेंधमारी की घटना को गुंडागर्दी बता रहा है। सत्तापक्ष चाहता है कि लोग बेरोजगारी पर बात न करे ,विपक्ष तानाशाही पर बात न करे। मीडिया और सत्तापक्ष सेंधमारी के आरोपियों को अफजल गुरु बता रहे हैं। क्योंकि इस घटना से देश में राम-राम कर तमाम मुद्दों से देश का ध्यान भटकाने का अभियान अटक रहा है। अयोध्या में मंदिर निर्माण से सरकार का कोई लेना-देना नहीं है लेकिन सरकार परोक्ष रूप से सारा भार वहन कर रही है । चम्पत राय केवल चेहरा हैं। वे कौन हैं जो देश की जनता को अयोध्या में राममंदिर के लोकार्पण के दिन देश के मंदिरों में पांच दीपक जलाने का आग्रह कर रहे हैं।
दरअसल भारत में इस समय ही नहीं बल्कि पिछले 43 साल से रामनामी राजनीति चला रही है । रामनामी राजनीति २०१४  में केंद्र की सत्ता हाथ में आने के बाद और तेज हो गयी। रामनामी राजनीति में राम के साथ राम के भक्त भी विश्वगुरु बनने की जुगत में जुट गए और आज तो वे बाकायदा देश की जनता को गारंटियां दे रहे हैं। इस देश में रामनामी राजनीति के लिए कितनी गुंजाइश है ये सत्तारूढ़ दल ज्यादा जानता है,हमें तो सिर्फ इतना पता है कि इस देश को आजादी राम के नाम पर नहीं मिली था । इस देश पर अगर राम की कृपा थी तो पांच सौ साल की गुलामी क्यों झेलना पड़ी सबको ? दरअसल राम का राजनीति से कोई लेना-देना न त्रेता में था और न कलियुग में है । राम को राजनीति में घसीटकर लाने वाले लोग दूसरे ही हैं। उनके लिए न संविधान महत्वपूर्ण है और न ही भाई-चारा।

संसद में सेंधमारी से यकीनन हमारे मोदी युगीन लौहपुरुषों की क्षमताओं की पोल खुली है। हमारे नए लौह पुरुष हर समस्या के लिए नेहरू-गांधी को गरियाकर अपनी राजनीति चमकाने में लगे हुए हैं ,और राम जी कृपा से उन्हें इसमें कामयाबी भी मिली है । हाल के पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों में जितनी विषम परिस्थितियों में रामभक्तों की पार्टी जीती है उसकी जांच के लिए इस देश में कोई एसआईटी गठित नहीं हो सकती ,क्योंकि यदि पूरी चुनाव प्रक्रिया की जांच होगी तो ठीक वैसी ही पोल खुलेगी जैसी संसद की सुरक्षा व्यवस्थाओं को लेकर खुली है । पोल खुलने से हर कोई डरता है। कांग्रेसी भी और भाजपाई भी।

मुझे ये कहने और मानने में कोई संकोच नहीं है कि रामनामी माला जपने वाले हमारे देश के नेता चुनाव लड़ने और लोकतंत्र को अपने काबू में रखने में कांग्रेस के मुकाबले सौ गुना ज्यादा श्रम करते है। वे दिन रात केवल चुनाव जीतने के लिए ही काम करते है। देश का विकास करने के लिए न उनके पास समय है और न मंशा । वे समझते हैं कि यदि राम जी की कृपा होगी तो देश का विकास अपने – आप हो जायेगा। विकास के लिए काहे को मगजमारी की जाये ? रामभक्तों की कामयाबी के लिए यकीन देश का विपक्ष जिम्मेदार है। यदि देश का विपक्ष जरा भी सजग होता तो ये देश कलियुग से वापस त्रेता की और लौटता नहीं दिखाई देता। दुनिया के कितने देश हैं जो पीछे की और लौट रहे हैं ?कितने देशों में धर्मध्वजाएं फहराकर लोकतंत्र की जय बोली जा रही है ?

सियासत में अदावत का रंग घोलने वाले लोगों से देश को न्याय की उम्मीद नहीं करना चाहिये । आज की तारीख में दो ही रास्ते हैं ,पहला ये कि हम सब रामधुन करें और तमाम मुद्दों को हमेशा के लिए तिलांजलि दे दें। या फिर देश के तमाम मुद्दों को लेकर एकजुट होकर लड़ें और राम जी से प्रार्थना करें कि वे अपने आपको राजनीति का खिलौना न बनने दें। राम जी हम सबके हैं ,वे किसी एक दल या एक विचारधारा के लोगों के नहीं हैं। वे न यादव हैं न राजपूत। वे न ब्राम्हण हैं न अगड़े-पिछड़े। उन्हें जातियों से जोड़ना ही पाप है। यदि भगवान हैं तो उन्हें खुद अपने आपको जातियों के खांचों में रखे जाने का विरोध करना चाहिए और यदि वे नहीं हैं तो जनता को हकीकत समझना चाहिए। मै बीते 40 साल से रामचरित मानस का नियमित परायण करने वाला आदमी हूँ लेकिन इसका मतलब ये नहीं कि मै बाकी दूसरे धर्मग्रंथों का परायण करने वालों को अपने से हीन समझूँ,दीन समझूँ या उन्हें राष्ट्रद्रोही मानूँ। कम से ऐसी शिक्षा 1980 के पहले तो इस देश में किसी राजनीतिक दल ने देशवासियों को नहीं दी।
संसद में सेंधमारी के बहाने देश को दो हिस्सों में बांटने वाली कोशिशों को निंदनीय मानते हुए मेरा आग्रह ये ही है कि इस देश को एक ऐसी संसद चाहिए जो बहरी न हो, जिसे जगाने के लिए किसी को संसद में सेंध न लगना पड़े । जिसे जागने वालों को निलंबित न होना पड़े या अपनी सदस्य्ता से हाथ न धोना पड़े। चिंतन-मनन आप भी कीजिये,ये आपकी जिम्मेदारी है। राम जी ने कभी नहीं कहा कि अपने देश और देशवासियों के बारे में न सोचा जाये। राम राज में तो खग,मृग को ही नहीं बल्कि हमारे धोबियों को भी टीका-टिप्पणी करने की छूट थी । इस अपराध के लिए राम राज में किसी को ‘ तड़ीपार ‘ नहीं किया गया,किसी को जेल में नहीं डाला गया। लेकिन आज टीका-टिप्पणी करना देशद्रोह है ,राजद्रोह है।
@ राकेश अचल
achalrakesh1959@gmail.com

Check Also

बजट का हलुवा और हलुए का बजट@राकेश अचल

🔊 Listen to this भारत अनोखा देश है। यहां सब कुछ अनोखा होता है ,जो …

googlesyndication.com/ I).push({ google_ad_client: "pub-