Breaking News

जबरन दी रिश्वत, फिर बनाया केस और पहुंचा दिया सलाखों के पीछे… ऐसे खुला राज

@शब्द दूत ब्यूरो (03 मार्च 2024)

उत्तर प्रदेश के कन्नौज में एंटी करप्शन टीम का सनसनीखेज मामला सामने आया है. यहां टीम ने एक बाबू को रिश्वत लेते हुए गिरफ्तार किया. अब इस मामले का सीसीटीवी फुटेज सामने आया है. वीडियो में एंटी करप्शन टीम के लोग बाबू को जबरन घूस वाली फाइल पकड़ा रहे हैं. वहीं, वह फुटेज में बाबू को पीटते हुए भी नजर आ रहे हैं.

एंटी करप्शन टीम ने घूस के आरोप में बाबू को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था. वीडियो वायरल होने के बाद अब टीम पर कई सवाल खड़े हो रहे हैं. बाबू को रिश्वत के जुर्म में गिरफ्तार करने वालों में एंटी करप्शन टीम के इंस्पेक्टर मृत्युंजय कुमार मिश्रा और उनके साथ करीब 10 अधिकारी और कर्मचारी साथ थे.

10 हजार रुपये के साथ रंगे हाथ पकड़ा था बाबू

बीते गुरुवार को कन्नौज के बीएसए ऑफिस में विमल दुबे नाम का एक बाबू तैनात है. उन पर यह आरोप लगाया गया कि वह एक शिक्षक से एरियर निकालने के नाम पर 20 हजार रुपये की रिश्वत मांग रहा है. गुरुवार को दोपहर करीब 12 बजे एंटी करप्शन की टीम ने 10 हजार रुपये घूस लेते बाबू को BSA ऑफिस से रंगे हाथों पकड़ा था. कोतवाली ले जा कर उसको जेल भेज दिया गया था. एंटी करप्शन की इस कार्रवाई से बेसिक शिक्षा विभाग के अधिकारी और कर्मचारी संतुष्ट नहीं थे. वह लगातार कार्यालय में लगे सीसीटीवी फुटेज की मांग कर रहे थे.

CCTV फुटेज में खुल गई पोल

जब सीसीटीवी फुटेज सामने आया तो सब लोग हैरान रह गए. वीडियो में देखा गया कि बाबू विमल दुबे अपनी सीट पर बैठे हुए हैं. उनके पास दो व्यक्ति खड़े कुछ बात कर रहे हैं. बाबू फोन पर बात कर रहे थे. नीली शर्ट पहने एक शख्स बाबू को एक फाइल देने लगता है. इतने में दूसरा शख्स भी उनको जबरन एक फाइल देने की कोशिश करता है. वीडियो फुटेज में बाबू फाइल लेते नहीं दिखते हैं. दोनों शख्स बाबू को जबरन फाइल पकड़ाने की कोशिश करते हैं. इसी छीना-झपटी में फाइल में रखे कुछ रुपये निकलकर गिर जाते हैं. यह देख नीली शर्ट पहना शख्स बाबू को जमकर थप्पड़ मारता है.

जबरन दे रहे थे घूस वाली फाइल, पीटा

इसी दौरान कई एंटी करप्शन टीम के लोग ऑफिस में घुसते हैं और बाबू को 10 हजार रुपये रिश्वत लेने के आरोप में पकड़ लेते हैं. सीसीटीवी फुटेज सामने आने के बाद बाबू पर फर्जी आरोपों की पुष्टि होते दिख रही है. इस मामले में कोई भी कुछ बोलने को तैयार नहीं है. खुद शिक्षा विभाग के अधिकारी भी मौन साधे हुए हैं. वीडियो देखने के बाद हर कोई एंटी करप्शन टीम पर सवाल उठा रहे हैं. लोगों का कहना है कि बेवजह एक बेकसूर को कैसे गुनहगार ठहराकर उसको गिरफ्तार किया गया. उसके साथ मारपीट की गई और जेल भेज दिया गया. उनका कहना है कि अगर सीसीटीवी फुटेज सामने नहीं आता तो बेगुनाह बाबू पर रिश्वतखोर सिद्ध हो जाता.

Website Design By Mytesta +91 8809666000

Check Also

अलीगढ़: ट्रांसफार्मर में शॉर्ट सर्किट से होटल में लगी आग, 6 दुकानें जलकर राख

🔊 Listen to this @शब्द दूत ब्यूरो (10 अप्रैल 2024) उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ जिले …

googlesyndication.com/ I).push({ google_ad_client: "pub-