Breaking News

उत्तराखंड – तो मुख्यमंत्री की विदाई तय, नये की ताजपोशी की तैयारी!

       

    विनोद भगत 

तो क्या उत्तराखंड में मुख्यमंत्री बदलने के राजनीतिक दांव-पेंच सफल होने जा रहे हैं। लगता है कि त्रिवेंद्र रावत को भी इसकी भनक पहले से ही थी। तभी उन्होनें कहा भी था कि उनके।खिलाफ अपने ही षड्यंत्र रच रहे हैं।

भाजपा हाईकमान के आगे राज्य के मुख्यमंत्री से असंतुष्ट नेताओं ने आखिरकार अपनी बात रखकर कामयाबी हासिल कर ली है।  प्रदेश के तमाम भाजपा नेताओं ने तो राज्य के नये मुख्यमंत्री अनिल बलूनी को बधाई तक दे दी है। हालांकि नये संभावित मुख्यमंत्री ने अभी इसे जल्दबाजी बताया है।

भाजपा से जुड़े एक सूत्र के अनुसार यदि सब कुछ असंतुष्ट नेताओं के मन मुताबिक चलता रहा तो जल्द ही उत्तराखंड के नये मुख्यमंत्री की ताजपोशी हो सकती है। दरअसल राज्य में भीतर ही भीतर भाजपा के वरिष्ठ नेताओं में आक्रोश की खबर है। मुख्यमंत्री की कार्यप्रणाली से नाराज भाजपा के नेता सीधे हाईकमान या यूं कहें कि केन्द्र से सम्पर्क साधे हुए हैं। और इसके विपरीत यह भी कहा जाता है कि केन्द्र के कुछ भाजपा नेता मुख्यमंत्री से नहीं राज्य के स्थानीय वरिष्ठ नेताओं के सम्पर्क में हैं।

दरअसल त्रिवेंद्र सिंह रावत के मुख्यमंत्री बनने के बाद कुछ वरिष्ठ भाजपा के प्रदेश नेता उपेक्षित महसूस कर रहे हैं। सीधे गृहमंत्री अमित शाह के नजदीकी माने जाते त्रिवेंद्र सिंह रावत के लिए ये ही वरिष्ठ भाजपा नेता परेशानी का सबब बने हुये हैं।विश्वसनीय सूत्रों की मानें तो यह करीब-करीब तय हो चुका है कि उत्तराखंड को नया मुख्यमंत्री दिया जाय।

दरअसल, असंतुष्ट नेता भाजपा हाईकमान को यह समझाने में कामयाब रहे कि आगामी चुनावों में यदि भाजपा को पुनः सत्ता में आना है तो मुख्यमंत्री बदलना होगा और यह तैयारी अभी से करनी होगी। इसमें अगर देर होती है तो फिर 2022 में पुनः सत्ता वापसी में मुश्किल होगी। 

सूत्र के मुताबिक इस समय राज्यसभा सांसद अनिल बलूनी का नाम सर्वाधिक चर्चित है। ज्यादा संभावना अनिल बलूनी की ही जताई जा रही है। उनके अलावा अन्य भाजपा नेताओं के नाम पर विरोध बताया जा रहा है। हालांकि पिछले दिनों भी ये चर्चा चली थी और तब से हाईकमान राज्य के भाजपा नेताओं से इस बारे में गहन मंथन और विचार विमर्श कर रहा था। पंचायत चुनाव से पहले राज्य की कमान किसी और को सौंपने की पूरी संभावना है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमित शाह दोनों की पसंद का मुख्यमंत्री बनाया जायेगा। और मौजूदा स्थिति अनिल बलूनी के पक्ष में ही दिखाई दे रही है।

Website Design By Mytesta +91 8809666000

Check Also

दिल्ली में मंदिर बन रहा है, धाम नहीं”: केदारनाथ मंदिर विवाद पर ट्रस्ट का बयान आया सामने, “राजनीतिक लाभ के लिए विवाद खड़ा किया जा रहा है”

🔊 Listen to this @शब्द दूत ब्यूरो (16 जुलाई 2024) देहरादून : दिल्ली में केदारनाथ …

googlesyndication.com/ I).push({ google_ad_client: "pub-