Breaking News

मौसम की पहली बर्फबारी में चमोली जिले में बर्फ से ढके गांव, बर्फ का आनंद लेने पर्यटक पहुंचने लगे औली

चमोली जिले के ऊंचाई वाले क्षेत्रों में स्थित गांव पाणा, ईराणी, झींझी, रामणी, डुमक, कलगोठ, सुरांईथोटा, जेलम, तोलमा, भलगांव, परसारी, बड़गांव, मेरग, सुभांई-भविष्यबदरी, पल्ला किमाणा, जखोला, वाण, सुतोल, कनोल और घूनी गांव बर्फ से ढक गए हैं।

@शब्द दूत ब्यूरो (31 दिसंबर, 2021)

चमोली जनपद में बारिश और बर्फबारी से शीतलहर का प्रकोप बढ़ गया है। बदरीनाथ धाम, हेमकुंड साहिब सहित ऊंचाई वाले क्षेत्रों में दूसरे दिन भी बर्फबारी हुई। ऐसे में जिले में करीब 21 गांव बर्फ के आगोश में आ गए हैं। गांवों के पैदल मार्ग पर बर्फ जमने से ग्रामीणों को आवाजाही में दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। वहीं बर्फबारी से जोशीमठ-औली और गोपेश्वर-चोपता मार्ग बाधित रहा। बदरीनाथ हाईवे पर हनुमान चट्टी से आगे हाईवे पर बिछी बर्फ में पाला जमने से सेना और आईटीबीपी के वाहन फिसल रहे हैं।

चमोली जिले के ऊंचाई वाले स्थानों पर हुई बर्फबारी दो दिन जारी रही। हालांकि इसके बाद धूप खिली तो लोगों को कड़ाके की ठंड से कुछ राहत मिली, लेकिन दोपहर बाद फिर मौसम खराब हो गया और ऊंचाई वाले क्षेत्रों में बर्फबारी शुरू हो गई। बदरीनाथ धाम, हेमकुंड साहिब, रुद्रनाथ, लाल माटी, नंदा घुंघटी के साथ ही नीती और माणा घाटी में बर्फबारी हुई है।

जिले के ऊंचाई वाले क्षेत्रों में स्थित गांव पाणा, ईराणी, झींझी, रामणी, डुमक, कलगोठ, सुरांईथोटा, जेलम, तोलमा, भलगांव, परसारी, बड़गांव, मेरग, सुभांई-भविष्यबदरी, पल्ला किमाणा, जखोला, वाण, सुतोल, कनोल और घूनी गांव बर्फ से ढक गए हैं।

आवाजाही के पैदल रास्तों में बर्फ जम जाने के कारण ग्रामीणों को आवाजाही में दिक्कतें हो रही हैं। बर्फबारी के बाद पाला जमने से कड़ाके की ठंड पड़ रही है। इधर, बर्फबारी को देखते हुए घाट, थराली, दशोली और जोशीमठ के गांवों में जनवरी माह तक का एडवांस राशन भेज दिया गया है। ग्रामीण क्षेत्रों में खाद्यान्न की कोई दिक्कत नहीं है।

बदरीनाथ धाम में कड़ाके की ठंड पड़ने से मास्टर प्लान के तहत चल रहे कार्य प्रभावित हो गए हैं। यहां भवनों का चिह्नीकरण कार्य पूर्ण होने के बाद अब आस्था पथ, शेषनेत्र झील का सौंदर्यीकरण व अन्य निर्माण कार्य होने थे, लेकिन कड़ाके की ठंड पड़ने से धाम में रह रहे मजदूर भी निचले क्षेत्रों में आ गए हैं। जबकि बदरीनाथ हाईवे पर हनुमान चट्टी तक ही ऑलवेदर रोड परियोजना कार्य इन दिनों चल रहा है। बदरीनाथ धाम में शेषनेत्र झील भी से जम गई है।

चमोली जिले में जमकर बर्फबारी से औली में चारों तरफ सफेद चादर बिछ गई है। यहां पर आधा फीट बर्फ जमी हुई है। ऐसे में नए साल की पूर्व संध्या पर होने वाले जश्न से पहले औली में बर्फबारी से पर्यटक व्यवसायियों में खुशी की लहर है। उन्हें उम्मीद है कि अच्छी बर्फबारी के बाद यहां बड़ी संख्या में पर्यटक पहुंचेंगे। वहीं औली में इन दिनों बड़ी संख्या में पर्यटक पहुंच रहे हैं और बर्फ का आनंद ले रहे हैं।

Check Also

मुख्य सचिव राधा रतूड़ी ने किया श्री केदारनाथ धाम का निरीक्षण

🔊 Listen to this @शब्द दूत ब्यूरो (22 अप्रैल 2024) रुद्रप्रयाग: उत्तराखंड की मुख्य सचिव …

googlesyndication.com/ I).push({ google_ad_client: "pub-