Breaking News

अभी तय नहीं कि ओमिक्रॉन पर कारगर है कोविशील्ड वैक्सीन या लगानी होगी बूस्टर डोज

सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया के प्रमुख अदार पूनावाला पूनावाला ने कहा है कि अगर जरूरत पड़ी तो नए कोरोना वैरिएंट के लिए खासतौर पर बनी कोविशील्ड वैक्सीन बनाने पर विचार किया जा सकता है।

@नई दिल्ली शब्द दूत ब्यूरो (02 दिसंबर, 2021)

दुनियाभर में ओमिक्रॉन के बढ़ते खतरे के बीच भारत में कोविशील्ड वैक्सीन बनाने वाली कंपनी सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया के प्रमुख अदार पूनावाला पूनावाला ने कहा है कि अगर जरूरत पड़ी तो नए कोरोना वैरिएंट के लिए खासतौर पर बनी कोविशील्ड वैक्सीन बनाने पर विचार किया जा सकता है। अदार पूनावाला ने हालांकि, यह कहा कि अगले 2-3 हफ्तों में यह पता लग जाएगा कि कोविशील्ड वैक्सीन नए वैरिएंट के खिलाफ कितनी कारगर है। ऐसे में अगर जरूरी हुआ तो ओमिक्रॉन को ध्यान में रखते हुए बूस्टर डोज भी संभव है।

अदार पूनावाला ने कहा, ‘ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय के वैज्ञानिक भी अभी रिसर्च कर रहे हैं, उनके शोध के आधार पर हम एक नई वैक्सीन बनाने पर विचार कर सकते हैं, जो बूस्टर डोज की तरह काम करेगी। रिसर्च के आधार पर ही हम वैक्सीन की तीसरी और चौथी खुराक देने के बारे में निर्णय पर पहुंच पाएंगे।’ हालांकि, उन्होंने यह भी स्पष्ट कर दिया कि ओमिक्रॉन वैरिएंट से लड़ने के लिए खास वैक्सीन ही चाहिए, यह जरूरी नहीं।

अदार पूनावाला ने कहा, ‘हमारे पास लाखों खुराकें स्टॉक में पड़ी है। हमने भारत के सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के लिए 20 करोड़ डोज रिजर्व रखी हैं। अगर सरकार बूस्टर डोज का ऐलान करती है तो हमारे पास पर्याप्त संख्या में वैक्सीन है। हालांकि, फिलहाल प्रमुखता कोरोना वैक्सीन की दूसरी डोज न लेने वालों का टीकाकरण पूरा करना होना चाहिए।’

हालांकि, सरकार ने फिलहाल यह स्पष्ट कर दिया है कि निकट भविष्य में बूस्टर डोज दिए जाने की उसकी कोई योजना नहीं है।

Check Also

14 साल की नाबालिग को सुप्रीम कोर्ट से राहत, 28 हफ्ते की प्रेग्नेंसी खत्म करने की इजाजत

🔊 Listen to this @शब्द दूत ब्यूरो (22 अप्रैल 2024) सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को …

googlesyndication.com/ I).push({ google_ad_client: "pub-