Breaking News

उत्तराखंड: शीतकाल के लिए बंद हुए श्री केदारनाथ धाम के कपाट

पुजारी बागेश लिंग ने केदारनाथ धाम के दिगपाल भगवान भैरवनाथ जी का आव्हान कर धर्माचार्यों की उपस्थिति में स्यंभू शिवलिंग को विभूति तथा शुष्क फूलों से ढककर समाधि रूप में विराजमान किया।

@शब्द दूत ब्यूरो (06 नवंबर, 2021)

उत्तराखंड के चार धामों में प्रसिद्ध ग्यारहवें ज्योर्तिलिंग भगवान केदारनाथ मंदिर के कपाट आज शनिवार भैया दूज वृश्चिक राशि अनुराधा नक्षत्र में समाधि पूजा-प्रक्रिया के पश्चात विधि-विधान से शीतकाल हेतु बंद हो गए।

बर्ह्ममुहुर्त से कपाट बंद होने की प्रक्रिया शुरू हो गयी। प्रात: छह बजे पुजारी बागेश लिंग ने केदारनाथ धाम के दिगपाल भगवान भैरवनाथ जी का आव्हान कर धर्माचार्यों की उपस्थिति में स्यंभू शिवलिंग को विभूति तथा शुष्क फूलों से ढककर समाधि रूप में विराजमान किया। ठीक सुबह 8 बजे मुख्य द्वार के कपाट शीतकाल हेतु बंद कर दिये गये।

बर्फ की सफेद चादर ओढ़े श्री केदारनाथ धाम से पंचमुखी डोली ने सेना के बैंड बाजो की भक्तमय धुनों के बीच मंदिर की परिक्रमा कर विभिन्न पड़ावों से होते हुए शीतकालीन गद्दी स्थल श्री ओंकारेश्वर मंदिर उखीमठ हेतु प्रस्थान किया।

इस अवसर पर प्रदेश के राज्यपाल गुरूमीत सिंह, मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी, पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत, सहित प्रदेश के पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज, पूर्व सांसद मनोहर कांत ध्यानी विधान सभा अध्यक्ष प्रेम चंद्र अग्रवाल ने धामों के कपाट बंद होने पर शुभकामनाएं दी।

 

Check Also

पहाड़ों की रानी Mussoorie में पर्यटकों की भारी भीड़, Nainital में ईद के बाद उमड़ा हुजुम

🔊 Listen to this @शब्द दूत ब्यूरो (13 अप्रैल 2024) मसूरी: ईद के बाद सेंकेंड …

googlesyndication.com/ I).push({ google_ad_client: "pub-