काशीपुर :समाज और कुदरत से मिले जख्मों के बावजूद दिव्यांग बच्चों ने नहीं मानी हार, डी बाली ग्रुप ने हौसलों की उड़ान को दिये पंख , देखिए वीडियो

@शब्द दूत ब्यूरो( 1 नवंबर 2021)

काशीपुर। कहते हैं कि ईश्वर जब इंसान के अंदर कोई कमी करता है तो उसे खूबी भी देता है। कुछ ऐसा ही महसूस हुआ आज यहाँ काशीपुर में दिव्यांग बच्चों द्वारा बनाए गये आकर्षक सामानों की प्रदर्शनी देखकर। अपंगता को अभिशाप मानने के बजाय इन बच्चों ने खुद को आत्मनिर्भर बनाकर समाज के आगे एक अनुकरणीय उदाहरण पेश किया है। इन दिव्यांग किन्तु हुनरमंद बच्चों की प्रतिभा को डी बाली ग्रुप ने हौसलों की उड़ान में सहायक बनकर समाज के एक सार्थक पहलू को प्रदर्शित किया। हम बात कर रहे हैं आज काशीपुर में जेल रोड पर एसपी कार्यालय के सामने दिव्यांग बच्चों द्वारा बनाए गये सामानों की प्रदर्शनी की जहाँ इनके द्वारा बैग, कुशन तकिये, मोमबत्ती और सुंदर सामानों की बिक्री के लिए प्रदर्शित किया गया था। डी बाली ग्रुप की ओर से प्रत्येक वर्ष इन बच्चों के लिए यह आयोजन किया जाता है।

जिसका उद्घाटन आज पुलिस अधीक्षक प्रमोद कुमार द्वारा किया गया। इस अवसर पर कार्यक्रम की आयोजक एवं डी -बाली ग्रुप की मैनेजिंग डायरेक्टर श्रीमती उर्वशी बाली एवं आम आदमी पार्टी के चुनाव कैंपेन कमेटी के प्रदेश अध्यक्ष दीपक बाली भी मौजूद रहे। दिव्यांग बच्चों द्वारा बनाए गए सामान को देखकर सभी आश्चर्यचकित रह गए ।

मुख्य अतिथि पुलिस अधीक्षक प्रमोद कुमार ने दिव्यांग बच्चों को शुभकामनाएं दी एवं कहां कि शरीर से पूरी तरह फिट बच्चों को इन दिव्यांग बच्चों से सबक सीखना चाहिए कि इन दिव्यांग बच्चों ने अपना समय मोबाइल आदि देखने पर खर्च करने के बजाय रचनात्मक सोच बनाकर जो सामान बनाया है यही सोच यदि वह बच्चे भी बनाएं जो अच्छे खासे हैं। मगर अपना समय मोबाइल देखने या फिर दूसरी फिजूल कीबातों पर खर्च करते हैं । सभी माताओं पिताओं को भी इन दिव्यांग बच्चों की रचनात्मक सोच से सबक सीख कर अपने बच्चों को रचनात्मक कार्यों में लगाना चाहिए। मुख्य अतिथि ने दिव्यांग बच्चों द्वारा बनाए गए सामान की खरीदारी कर उनकी हौसला अफजाई भी की। आगंतुक लोगों ने भी खरीदारी की। खास बात यह रही कि इन दिव्यांग बच्चों को प्रशिक्षित करने में उत्तराखण्ड की जिस प्रेरणादायी महिला ने अपनी भूमिका लगातार निभाई है। वह है एसिड अटैक पीड़ित कविता बिष्ट। कविता बिष्ट उत्तराखंड के लिए जाना पहचाना नाम है। समाज के किसी शैतान से मिले जख्मों को भुलाकर कविता ने एक मिसाल पेश की है। 

डी -बाली ग्रुप की मैनेजिंग डायरेक्टर श्रीमती उर्वशी बाली ने कहा कि दिव्यांग बच्चों को हौसला देने का उनका काम निरंतर जारी रहेगा। इस अवसर पर डी- बाली ग्रुप के अजय शर्मा, नवनीत मणि त्रिपाठी, राहुल शर्मा, पवन जोशी, तथा नेमपाल, दिव्यांग बच्चों के जे एसआर स्पेशल स्कूल एंड स्किल डेवलपमेंट ट्रेंनिंग सेंटर पीरुमदारा केप्रबंधक संदीप रावत, कविता बिष्ट, बच्चों के शिक्षक वीरेंद्र रावत तथा दिव्यांग बच्चे साक्षी, श्वेता पंत, तनुजा बिष्ट, साफिया, साधना, दीक्षा भंडारी, माही, आफताब, विजय, योगेश, निर्मल, हेमचंद्र के अलावा मनीष अग्रवाल, अमित सक्सेना, मुद्रा बाली, नूर मोहम्मद सहित  गणमान्य लोग एवं आमजन मौजूद रहे।

Website Design By Mytesta +91 8809666000

Check Also

पिथौरागढ़: पहाड़ पर तेज रफ्तार ने ले ली जान… 200 फीट खाई में गिरी कार, 4 लोगों की मौत

🔊 Listen to this @शब्द दूत ब्यूरो (22 अप्रैल 2024) उत्तराखंड के पिथौरागढ़ में भीषण …

googlesyndication.com/ I).push({ google_ad_client: "pub-