Breaking News

उत्तराखंड में 2 अगस्त से स्कूल खोलने का अभिभावकों व बच्चों ने किया विरोध

@शब्द दूत ब्यूरो (29 जुलाई 2021)

देहरादून । उत्तराखंड में स्कूल खोलने के सरकार के निर्देशों का अभिभावक और बच्चे विरोध कर रहे हैं। 

सरकार के स्कूल खोलने के आदेश का विरोध करने वाले अभिभावकों और बच्चों के अपने तर्क है। अभिभावकों का कहना है कि अभी सभी शिक्षकों को वैक्सीन की दूसरी डोज नहीं लग पाई है ऐसे में कोविड संक्रमण का फैलना कैसे रूक पायेगा? 

वहीं कुछ बच्चों ने कहा कि 18 वर्ष से कम आयु के लिए वैक्सीन नहीं आई है। यदि किसी बच्चे को कोरोना संक्रमण होगा तो वह स्कूल में अन्य बच्चों में भी फैल सकता है। 

अभिभावक कहते हैं कि स्कूल दो पालियों में चलेगा। एक पाली के बाद दूसरी पाली के बीच क्या स्कूल प्रबंधन पूरी कक्षाओं का सैनिटाइजेशन कर लेगा? 

सरकारी गाइडलाइंस के मुताबिक शादी विवाह आदि में 50 से अधिक लोगों के इकट्ठा होने पर रोक है। लेकिन स्कूलों में बच्चों को बुलाया जा रहा है। 

कोरोना की तीसरी लहर की आशंका जताई जा रही है, कांवड़ यात्रा पर पाबंदी लगा दी है। क्योंकि एक तरफ 12वी कक्षा से ऊपर के विद्यालय खोले नहीं जा रहे है। लेकिन सरकार सिर्फ 06 से 12वीं कक्षा तक के विद्यालय खोलने के लिए तत्पर है।

अभिभावकों की एसोसिएशन का कहना है कि जब तक सभी छोटे बच्चों को वैक्सीन नहीं लगाई जाएगी तब तक विद्यालय नहीं खोले जाने चाहिए। यदि बच्चे कोरोना संक्रमण की जद में आते हैं तो किसकी जिम्मेदारी होगी? 

 

 

Check Also

उत्तराखंड: मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने आबकारी विभाग को शराब की बिक्री और बरामदगी पर निगरानी के दिये निर्देश

🔊 Listen to this @शब्द दूत ब्यूरो (01 मार्च 2024) देहरादून। मुख्य निर्वाचन अधिकारी डॉ. …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

googlesyndication.com/ I).push({ google_ad_client: "pub-