Breaking News

डॉक्टर 13 महीने में तीन बार कोरोना पॉज़िटिव, दो बार दोनों डोज लेने के बाद

@नई दिल्ली शब्द दूत ब्यूरो (28 जुलाई, 2021)

महाराष्‍ट्र के महानगर मुंबई से एक चौंकाने वाली खबर आई है। 26 साल की एक डॉक्टर को 13 महीने में तीन बार कोरोना हुआ, दो बार तो यह वैक्सीन की दोनों डोज़ लेने के बाद संक्रमण का शिकार बनी। इस डॉक्टर की मां, पिता और भाई भी वैक्सीन की दोनों डोज़ के बाद जुलाई में पहली बार कोविड पॉज़िटिव हुए और पूरा परिवार अस्पताल में भर्ती हुआ।

फिलहाल डॉक्टर और उनके भाई के स्वॉब की जीनोम एनालिसिस चल रही है। ये पता लगाया जा रहा है कि कहीं ये वायरस का कोई नया स्ट्रेन तो नहीं? 26 साल की डॉक्‍टर सृष्टि हलारी बीते 11 महीनों में एक या दो नहीं बल्कि तीन बार कोविड पॉज़िटिव हुई हैं। इसमें भी  हैरानी की बात ये है कि वैक्सीन की दोनो डोज़ लेने के बाद सृष्टि दो बार कोविड पॉज़िटिव हुईं।

सिर्फ़ डॉ. सृष्टि ही नहीं, उनका पूरा परिवार, माता-पिता और भाई भी अप्रैल में वैक्सीन की दोनों डोज़ लेने के बाद जुलाई में कोविड पॉज़िटिव हुए थे। मुलुंड के वीर सावरकर अस्पताल में कोविड ड्यूटी पर तैनात डॉ शृष्टि हलारी को 17 जून 2020 को पहली बार कोरोना हुआ लेकिन बेहद कम लक्षण थे। कोविशील्ड टीके की पहली डोज़ इन्‍होंने आठ मार्च को ली और दूसरी डोज़ 29 अप्रैल को। पूरा परिवार साथ में वैक्‍सीनेट हुआ। लेकिन क़रीब एक महीने बाद 29 मई को डॉ शृष्टिदूसरी बार कोविड पॉज़िटिव हुईं। उनमें लक्षण थे लेकिन घर पर ही ठीक हुईं।

मामला यही नहीं खत्‍म नहीं होता. क़रीब सवा महीने बाद 11 जुलाई को फिर डॉक्‍टर सृष्टि तीसरी बार कोविड पॉज़िटिव हुईं। इस बार टेस्ट में पूरा परिवार— मां, पिता और भाई भी पॉज़िटिव निकले। सभी को अस्पताल में भर्ती होना पड़ा और रेमडेसिविर की भी ज़रूरत पड़ी। यह मामला इसलिए भी चौंकाता है क्‍योंकि डॉक्‍टर सृष्टि में वैक्सीन के बाद अच्छी एंटीबॉडी बनी थी। इनके पिता भी डॉक्टर हैं, पूरे परिवार को कोई न कोई बीमारी है लेकिन सृष्टि को नहीं। इसके बाद भी वे तीन बार कोरोना पॉज़िटिव हुईं।

Check Also

डॉ. अजय कृष्ण विश्वेश: जिनके फैसले के बाद ज्ञानवापी में शुरू हुई पूजा, वे बने लखनऊ की यूनिवर्सिटी के नए लोकपाल

🔊 Listen to this @शब्द दूत ब्यूरो (01 मार्च 2024) 31 जनवरी, 2024 बुधवार का …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

googlesyndication.com/ I).push({ google_ad_client: "pub-