Breaking News

चमोली आपदा: ऋषिगंगा में बनी झील तक पहुंची आईटीबीपी-डीआरडीओ की टीम

@नई दिल्ली शब्द दूत ब्यूरो

भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (आईटीबीपी) और रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (डीआरडीओ) की एक संयुक्त टीम उत्तराखंड के चमोली जिले की ऋषिगंगा में ऊंचाई पर बनी कृत्रिम झील वाले स्थान तक पहुंच गई है। हाल में हिमखंड टूटने के कारण अचानक आई बाढ़ के बाद संभवतः यह झील बनी है। अधिकारियों ने बताया कि झील मुरेंडा में बनी है, जहां तक जाने के लिए रैणी गांव से करीब 5-6 घंटे लग जाते हैं। आईटीबीपी के प्रवक्ता विवेक कुमार पांडे ने बताया, ‘‘झील तक पहुंचनेवाले यह पहली टीम है। आईटीबीपी तथा डीआरडीओ के कर्मी हाल में अचानक आई बाढ़ के कारण बनी कृत्रिम झील से संभावित खतरे का आकलन करेंगे।”

इससे पहले हेलिकॉप्टर से झील का निरीक्षण किया गया था। उपग्रह की तस्वीरों का भी इस्तेमाल हुआ था। उन्होंने कहा कि आईटीबीपी के सहायक कमांडेंट शेर सिंह बुटोला के नेतृत्व में पांच सदस्यीय टीम एक कैंप लगाएगी और झील के निकट हैलिपैड तैयार करेगी ताकि हेलिकॉप्टर से और विशेषज्ञों तथा अन्य सामानों को वहां पहुंचाया जा सके। इससे निचले क्षेत्र के गांवों और आधारभूत संरचना को खतरे के बारे में संभावित खतरे का विश्लेषण किया जाएगा। पांडे ने कहा कि इस टीम में जोशीमठ में स्थित आईटीबीपी की पहली बटालियन के कर्मी, औली स्थित पर्वतारोहरण संस्थान के पर्वतारोही और एक स्थानीय गाइड भी है। झील के पानी के बहाव का रास्ता भी बनाया जाएगा ताकि किसी तरह का खतरा ना हो।

बल ने झील की कुछ तस्वीरें और वीडियो भी साझा किया है। अधिकारियों ने कहा कि यह झील 250 मीटर तक चौड़ी है जबकि इसकी गहराई के बारे में कुछ नहीं कहा जा सकता। एक अधिकारी ने बताया, ‘‘सात फरवरी को हिमखंड टूटने के बाद अलकनंदा नदी में अचानक तेज प्रावह के कारण शायद यह झील बनी।” उन्होंने कहा, ‘‘झील के बारे में अध्ययन करना जरूरी है ताकि किसी भी आपात स्थिति के लिए तैयार रहा जा सके और इसके टूटने की स्थिति में पहले ही चेतावनी जारी कर दी जाए।” उत्तराखंड में 7 फरवरी को अचानक आई विकराल बाढ़ में मृतकों की संख्या 58 हो गई है जबकि 146 लोग लापता हैं।

Website Design By Mytesta +91 8809666000

Check Also

केदारनाथ यात्रियों को ले जा रहे हेलीकॉप्टर की इमर्जेंसी लैंडिंग,सभी यात्री सुरक्षित देखिए घटना का खौफनाक वीडियो

🔊 Listen to this @शब्द दूत ब्यूरो (24 मई 2024) केदारनाथ । आज प्रातः लगभग …

googlesyndication.com/ I).push({ google_ad_client: "pub-