Breaking News

काशीपुर डिग्री कालेज :पेपर छूटने से भड़के छात्रों ने किया राजमार्ग जाम

 

प्रभारी प्राचार्य का घेराव करते परीक्षार्थी

काशीपुर कुमायूं विश्वविद्यालय की बी ए तृतीय वर्ष की समाजशास्त्र द्वितीय की परीक्षा तिथि में परिवर्तन होने से परीक्षा देने से छूटे छात्र छात्राएं आज महाविद्यालय में आक्रोशित हो गए। इस दौरान जहां उन्होंने महाविधालय की प्रभारी प्रधानाचार्य के सामने जहां जमकर आक्रोश जताया तो वही छात्र छात्राओं ने सड़क पर उतर कर कुछ देर के लिये राष्ट्रीय राजमार्ग भी बाधित कर दिया ।

 दरअसल, आज बी ए तृतीय वर्ष के प्राइवेट दर्जनों छात्र छात्राये समाजशास्त्र द्वितीय प्रश्न पत्र की परीक्षा देने राधे हरि राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय पहुँचे थे ।यहां पहुँच कर उन्हें ज्ञात हुआ कि उनकी आज होने वाली परीक्षा को विश्विद्यालय द्वारा बीती 4 जून को ही सम्पन्न करा दिया गया है। इस पर परीक्षा देने से छूटे दर्जनों छात्र छात्राये भड़क गए और प्रभारी प्रधानाचार्या आशा रानी के कार्यालय में जा पहुँचे और दोबारा परीक्षा कराये जाने की मांग करने लगे। प्रधानाचार्या द्वारा असमर्थता जताने पर सभी छात्र छात्राएं आक्रोशित हो महाविधालय के बाहर राष्ट्रीय राजमार्ग पर आ गए और जमकर हंगामा काटने लगे। इस दौरान कुछ देर तक राजमार्ग भी बाधित हो गया, साथ ही वाहनों की लंबी लम्बी लाईन मार्ग के दोनों ओर लग गई । सूचना पर आई टी आई थाना प्रभारी कुलदीप अधिकारी भी मौके पर पहुँच गए और छात्र छात्राओं को समझाबुझाकर प्रधानाचार्या से बातचीत के लिए ले गए। प्रधानाचार्या ने बताया कि बीती 4 अप्रेल को कुमायूं विश्वविद्यालय द्वारा जारी की परीक्षा स्कीम के अनुसार समाजशास्त्र द्वितीय की परीक्षा आज आयोजित होनी थी परंतु स्कीम में अगले दिन ही परिवर्तन कर परीक्षा तिथि 4 जून कर दी गई जिस कारण कुल 316 छात्र छात्राओं में से 237 परीक्षार्थी ही परीक्षा दे पाए जबकि जानकारी के आभाव के चलते 79 परीक्षार्थी छूट गए। उन्होंने मौजूद छात्र छात्राओं को आश्वाशन दिया कि उनके द्वारा इस बाबत प्रार्थना पत्र देने पर विश्वविद्यालय प्रसाशन से पुनः बचे हुए परीक्षार्थी की परीक्षा कराने का अनुरोध किया जाएगा। उनके द्वारा आश्वाशन दिए जाने पर छात्र छात्राएं शांत हुए।

Website Design By Mytesta +91 8809666000

Check Also

स्लेट से टैबलेट तक का सफर@राकेश अचल

🔊 Listen to this रविवार यानि छुट्टी का दिन।आज के दिन हम न सियासत की …