ऊधमसिंहनगर :तो क्या भाजपा विधायकों की गैरमौजूदगी रही किसान रैली के फ्लाप होने की वजह

@शब्द दूत ब्यूरो

 एक तरफ केंद्र सरकार देशभर में चल रहे किसान आंदोलन से परेशान है और किसानों को समझाने के लिए किसान बिल के समर्थन में रैलियों का आयोजन कर रही है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत कई केन्द्रीय मंत्री अनेक जगहों पर किसानों को समझा रहे हैं। ऊधमसिंहनगर जिले में आयोजित किसान बिल के समर्थन में भाजपा की किसान रैली विपक्ष के विरोध से ज्यादा अपनी ही पार्टी के विधायकों व मंत्री की गैरमौजूदगी के लिए चर्चा में रही। दरअसल इस रैली को फ्लाप करने के लिए विपक्ष से ज्यादा भाजपा के नेता ही जिम्मेदार रहे।

जिले से विधायक हरभजन सिंह चीमा, राजेश शुक्ला, सौरभ बहुगुणा की गैरमौजूदगी के चलते इस किसान रैली का आयोजन मात्र एक औपचारिकता बन कर रह गया। और दूसरी तरफ विपक्ष का विरोध प्रदर्शन इस रैली में हावी रहा।

केन्द्रीय मंत्री डा रमेश पोखरियाल निशंक और प्रदेश भाजपा अध्यक्ष बंशीधर भगत की मौजूदगी के बावजूद रैली में किसान कम भाजपा कार्यकर्ता ज्यादा नजर आये। दरअसल जिन विधायकों पर इस रैली में किसानों को लाने का जिम्मा सौंपा गया था वह खुद ही रैली से दूरी बनाए रहे। हालांकि पार्टी को स्वास्थ्य खराब होने का हवाला दिया गया लेकिन यह इत्तेफाक है कि ठीक रैली के आसपास ही विधायक बीमार हुये। प्रदेश के कैबिनेट मंत्री यशपाल आर्य भी दूसरी जगह कार्यक्रम होने की वजह से से इस रैली में शामिल नहीं हो पाये। एक कैबिनेट मंत्री अरविंद पांडे रैली में आये तो लेकिन उन पर चूड़ियां फेंकी गई।

दरअसल ऊधमसिंहनगर किसान बहुल जिला है ऐसे में विधायकों को अपने वोट बैंक के खिसकने का डर बना हुआ है। वहीं खास बात यह है कि ऊधमसिंहनगर जिले के भाजपा विधायकों का कृषि कानूनों को लेकर समर्थन पर अभी तक जोरदार बयान नहीं आया है जिससे जाहिर है कि वह राजनीतिक नुकसान नहीं चाहते हैं।

Website Design By Mytesta +91 8809666000

Check Also

उत्तराखंड: बर्खास्त होने के बाद रो पड़े हरक सिंह रावत, कहा- इतने बड़े फैसले से पहले कुछ नहीं बताया गया

🔊 Listen to this @शब्द दूत ब्यूरो (17 जनवरी, 2022) उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *