Breaking News

आपराधिक मामलों में आप नेता संजय सिंह को सुप्रीम कोर्ट से फिलहाल राहत नहीं

@शब्द दूत ब्यूरो

आम आदमी पार्टी से राज्यसभा सांसद संजय सिंह को फिलहाल सुप्रीम कोर्ट से राहत नहीं मिली है। संजय सिंह के खिलाफ उत्तर प्रदेश में दर्ज आपराधिक मामलों को खारिज करने की मांग वाली याचिका पर सुनवाई अगले हफ्ते तक के लिए टल गई है। कोर्ट ने संजय सिंह की गिरफ्तारी पर रोक लगाने की मांग पर फिलहाल कोई आदेश नहीं दिया है।

 उत्तर प्रदेश में अपने खिलाफ दर्ज कई एफआईआर रद्द करने की गुहार लगाते हुए आम आदमी पार्टी के राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाज़ा खटखटाया है। संजय सिंह ने ये एसएलपी इलाहाबाद हाईकोर्ट के फैसले को चुनौती देने को दाखिल की है। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 21 जनवरी को दिए फैसले में सिंह के खिलाफ दर्ज एफआईआर रद्द करने से साफ इनकार कर दिया था।

बता दें कि पिछले साल 12 अगस्त को संजय सिंह ने लखनऊ में प्रेस कॉन्फ्रेंस की थी। प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कुछ जातियों को लेकर राज्य सरकार पर की गई उनकी टिप्पणी पर आपत्ति जताते हुए कई जिलों में उनके खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराई गई थीं। संजय सिंह ने सरकार पर कुछ जातियों के लोगों से भेदभाव और कुछ जातियों को बढ़ावा देने का कथित इल्जाम लगाया था। सुप्रीम कोर्ट में दाखिल याचिका के मुताबिक- आप नेता ने लखनऊ, संत कबीर नगर, खीरी, बागपत, मुजफ़्फरगर, अलीगढ़, बस्ती सहित कई नगरों कस्बों में उस बयान के आधार पर उनके खिलाफ पुलिस में एफआईआर दर्ज कराए जाने को चुनौती दी है।

बता दें कि आम आदमी पार्टी  के सांसद संजय सिंह ने नार्थ एवेन्यू थाने में जान से मारने की धमकी दिए जाने की शिकायत दर्ज कराई है। संजय सिंह की ओर से दिल्ली पुलिस को दी गई शिकायत में ‘हिन्दू वाहिनी’ के नाम से कॉल कर ज़िंदा जलाने की धमकी देने का आरोप लगाया गया है। संजय सिंह की ओर से पुलिस को दी गई शिकायत में कहा गया है कि-“फोन करने वाले शख़्स ने धमकी देते हुए कहा-मैं हिंदू वाहिनी से बोल रहा हूं, संजय सिंह को मिट्टी का तेल डालकर ज़िंदा जला दूंगा।”

Website Design By Mytesta +91 8809666000

Check Also

सोनू सूद का इनकम टैक्स की छापेमारी के बाद ट्वीट, कहा-दिल से सेवा करता हूं मैं

🔊 Listen to this @नई दिल्ली शब्द दूत ब्यूरो (20 सितंबर, 2021) बॉलीवुड एक्‍टर सोनू …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *