हल्द्वानी बेस चिकित्सालय में डीएम ने पकड़ी कई खामियां, मरीज को चिकित्सक से दिलवाये 700 रूपये

हल्द्वानी ।बाहर से दवा लिखने पर जिलाधिकारी का पारा चढ़ गया और उन्होंने तत्काल ही डाक्टर से 700 रुपये मरीज को वापस दिलवाये।  जिलाधिकारी  सविन बंसल सुबह अचानक  बेस चिकित्सालय पहुंच गए और  औचक निरीक्षण किया। निरीक्षण दौरान उन्होने चिकित्सकों द्वारा जेनरिक दवा ना लिखने व बाहर से दवा लिखने पर नाराजगी व्यक्त की। मौके पर ही उन्होंने  चिकित्सक डा0 सीएस भटट को प्रतिकूल प्रविष्टि देने के निर्देश  दिया।

गरीब मरीज को प्राइवेट दुकान से दवा लिख कर खरीदवाने पर प्रमुख चिकित्सा अधीक्षक डा0 हरीश लाल से मरीज राजीव कुमार को नगद 700 रूपये दिलवाये। चिकित्सालय मे गन्दगी पर डीएम ने फटकार लगाई और  सफाई ठेकेदार विपिन कार्ड पाल पर  20 हजार जुर्माना लगाया। बाद में चिकित्सालय के  रसोईघर में गन्दगी पाये जाने पर ठेकेदार सचिन जोशी को 5 हजार का जुुर्माना निरीक्षण के दौरान लगाया। निरीक्षण दौरान 25 अधिकारी व कर्मचारी अनुपस्थित पाये गये जिनका वेतन रोकने के निर्देश मौके पर दिये।
जिलाधिकारी  बंसल ने बेस चिकित्सालय के औचक निरीक्षण के दौरान चिकित्सालय मे भर्ती मरीजों व उनके तीमारदारों से हालचाल पूछा व जानकारियां ली। उनके पूछने पर मरीजो व तीमारदारों ने अवगत कराया कि चिकित्सकों द्वारा छोटी-छोटी पर्चियां देकर    बाहर दुकानों  से दवायें मंगवाई जाती है साथ ही शौचालयों की सफाई ना होने व चादरें भी नियमित ना बदले जाने की जानकारी दी। जिस पर जिलाधिकारी ने गहरी नाराजगी व्यक्त करते हुये प्रमुख चिकित्सा अधीक्षक को चेतावनी देते हुये कहा कि यदि दोबारा चिकित्सकों द्वारा जेनरिक दवाईयां ना लिखने व निजी मेडिकल स्टोरो  से दवा मंगवाई तो कडी कार्यवाही की जायेगी। उन्होने चिकित्सालय प्रयोगशाला के निरीक्षण दौरान गन्दगी पाये जाने व अनावश्यक सामग्री लैब में रखे जाने पर नाराजगी व्यक्त करते हुये तुरन्त प्रयोगशाला की सफाई करने व निष्प्रयोज्य सामग्री हटाने के निर्देश दिये।
जिलाधिकारी  ने सिटी मजिस्टेट, खाद्य सुरक्षा अधिकारी द्वारा चिकित्सालय किंचन की व्यवस्था के साथ ही खाद्य पदार्थो के सैम्पल लेने के निर्देश दिये। चिकित्सकों द्वारा मरीजों को दवाईयां तीन पर्ची मे लिखे जाने पर तीसरी पर्ची में लिखी हुई दवाईयोे का नाम साफ नही आने पर चिकित्सको को सुस्पष्ट दवाइयें लिखने के साथ ही प्रमुख चिकित्सा अधीक्षक को नियमित चैकिंग करने के निर्देश दिये। उन्होने चिकित्सालय औषधि भण्डार का निरीक्षण किया निरीक्षण दौरान पाया कि कम्पयूटर आपरेटर के अवकाश पर होने के कारण भण्डार की औषधियां पोर्टल पर आनलाईन अपडेट नही हो रही थी जिस पर जिलाधिकारी ने सिटी मजिस्टेट को शनिवार को औषधि स्टोर रजिस्टर व आनलाइन पोर्टल अपलोड चैक करने के निर्देश दिये।
जिलाधिकारी ने निरीक्षण दौरान इमरजैंसी रूम, इंजैक्शन रूम, प्लास्टर, फिजियोथैरेपी, ईएनटी, बिल काउन्टर, दवा वितरण कक्ष, दन्तरोग, सर्जरी कक्ष, मेडिकल, सर्जिकल, मलेरिया वार्ड,प्रयोगशाला,किंचन,ओपीडी व शौचालय आदि का निरीक्षण किया। उन्होने चेतावनी दी कि कि दोबारा निरीक्षण दौरान इस प्रकार की खामियां पायी गई तो कठोर कार्यवाही की जायेगी।

निरीक्षण दौरान मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 भारती राणा,प्रमुख चिकित्सा अधीक्षक डा0 हरीश लाल,नगर आयुक्त सीएस मर्तोलिया, उप जिलाधिकारी विवेक राय, सिटी मजिस्टेट प्रत्युष सिह, अपर मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डा0 एमएम तिवारी भी साथ रहे।

Website Design By Mytesta +91 8809666000

Check Also

बिल नहीं चुकाया तो ऑपरेशन के बाद बिना टांके लगाए खुला छोड़ा पेट, मासूम की मौत

🔊 Listen to this @शब्द दूत ब्यूरो उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में एक निजी अस्पताल …