हरीश रावत फिर सेल्फ क्वारंटाइन में गये, कारण जानने को पढ़ें पूरी खबर

देहरादून । पूर्व मुख्यमंत्री व भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के महासचिव हरीश रावत एक बार फिर सेल्फ क्वारंटाइन में चले गए हैं। अपनी फेसबुक पोस्ट पर उन्होंने यह जानकारी साझा की है। 

दोस्तो आप सब मुझसे मिलने आते हैं, बहुत अच्छा लगता है और अपनत्व व प्यार में आते हैं। आप जानते हैं मैं कुछ दे नहीं सकता, मगर आप कुछ देने आते हैं, वो प्यार वो स्नेह है। मगर आपकी सुरक्षा की बात सोचना मेरा भी दायित्व है। मैं निरंतर सार्वजनिक कार्यक्रमों में गया हूं और ऐसे एरियाज में गया हूं जो कोरोना संक्रमित हैं और कुछ संदिग्ध तरीके के लोग भी मेरे बहुत नजदीक तक आये हैं, तो मुझे इधर मुझे यह आभास हुआ है, 2-3 दिन में कि मैं आप सबको खतरे में डाल रहा हूँ, जो मुझसे मिलने आ रहे हैं, कोशिश करता हूँ, लेकिन फिर भी कोई फूल ले आते हैं, कोई खाने कुछ चीजें ले आते हैं, बल्कि मैंने कुछ लोगों के साथ रुखा व्यवहार भी किया है, जो मेरे स्वभाव में नहीं है और मुझे बहुत तकलीफ है, अपने उस व्यवहार के लिये। मगर लोगों की सुरक्षा के लिये मैंने तय किया है, कल दिनांक-24 अगस्त, 2020 से कम से कम 10 दिन पूरे आइसोलेशन में रहूंगा, आप जिसको सेल्फ क्वारंटाइन भी कह सकते हैं उसमें रहूंगा, आप और हम केवल मोबाईल के माध्यम से बातचीत करें, जो आज्ञा आपकी मुझको हो लिखा दीजियेगा, बल्कि हो सके तो आमने-सामने दर्शन भी करा दीजियेगा, वीडियो कॉलिंग के माध्यम से, मगर यदि 10 दिन आप मेरे निवास पर आने का कष्ट न उठायें, तो मैं समझता हूं कि मुझे संतोष रहेगा, नहीं तो कहीं से भी यदि दुर्भाग्य से कोई मेरे कारण संक्रमित हो गया तो वो अच्छा नहीं होगा, अभी तो कुछ नहीं दिखाई देता है, लेकिन बात बिगड़ने पर फिर बहुत सारे उलाहने मिलते हैं, तो इसलिये मेरी भावना को समझिये और 10 दिन आप थोड़ा सा मुझसे दूरी रखें और मोबाईल में जरू याद करते रहियेगा, यदि आप याद नहीं करेंगे तो मेरा खाना ही नहीं पच सकता है, मैं सो ही नहीं सकता हूं, दिमाग काम ही नहीं कर सकता है, आप तो हमारे लिये सब कुछ हैं, मगर आपकी सुरक्षा मेरे लिये सब कुछ है, इसलिये मैं यह आग्रह कर रहा हूं।

Website Design By Mytesta +91 8809666000

Check Also

उत्तराखंड के स्थानीय उत्पादों के उत्पादकों को प्रमाण पत्र बांटे

🔊 Listen to this @शब्द दूत ब्यूरो 27 सितंबर 2021) देहरादून । उत्तराखण्ड सचिवालय स्थित …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *