Breaking News

सीएए के विरोध में प्रदर्शन के मद्देनजर फर्रुखाबाद में पुलिस प्रशासन चौकन्ना

बाजार में तैनात पुलिस बल

नवल सारस्वत की रिपोर्ट 

फर्रुखाबाद। यहां नागरिकता कानून को लेकर  हो रहे विरोध को देखते हुए पुलिस प्रशासन काफी चौकन्ना है। नगर में पुलिस के जवान स्थिति पर नजर रखे हुए हैं। बीते रोज समाजवादी पार्टी कार्यकर्ताओं के हंगामे को देखते हुए विशेष सतर्कता बरती जा रही है। बता दें कि नागरिकता संशोधन कानून का विरोध में प्रदर्शन करते हुए सपाइयों बीते रोज खूब हंगामा किया।  प्रदर्शनकारी कलेक्ट्रेटममें घुसने की कोशिश कर रहे थे कि पुलिस ने उन्हें रोक दिया।  इस दौरान  पुलिस और सपाइयों की खूब नोकझोंक हुई।

पुलिस अधिकारियों ने बताया कि पूरे शहर में स्थिति सामान्य है। पुलिस के जवान हर स्थिति से निपटने के लिए तैयार है।

बवाल की आशंका से पहले ही पुलिस एमआईसी तिराहे से ही चौकन्नी थी। भारी पुलिस बल के बाद भी सपाइयों ने नागरिकता बिल को लेकर जोरदार प्रदर्शन किया। सिटी मजिस्ट्रेट को ज्ञापन देने से मना कर दिया। इसके बाद सुभाष तिराहे पर सपाइयों की प्रशासनिक अफसरों ने खूब मान मनोव्वल की। इसके बाद वे लोग ज्ञापन देने को तैयार हुए। लंबे समय बाद सपाइयों में नागरिकता बिल को लेकर जोश दिखाई पड़ा। विभिन्न विधानसभा क्षेत्रों से जत्थों के रूप में आए सैकड़ों सपाई एमआईसी के निकट एक होटल के निकट इकट्ठे हुए। यहां पर पुलिस ने पहले ही घेराबंदी कर दी थी। डिवाइडर लगाकर सपाइयों को आगे जाने से रोकने के लिए पूरी रणनीति तैयार कर ली गई। इसके साथ ही कलेक्ट्रेट के दोनों गेट भी बंद कर दिए गए। सपाइयों का भारी हुजूम लाल टोपी लगाकर जैसे ही होटल से कलेक्ट्रेट की ओर आगे बढ़ा तो पुलिस ने मोर्चा संभाल लिया। इस बीच तिराहे पर ही लगे डिवाइडर के बीच से सपाई पुलिस से भिड़ गए। कहा सुनी होने के बाद दर्जनों सपाई डिवाइडर पार भी कर गए।

 शहर में बाजार में सामान्य रूप से लोगों का आना जाना है। कुल मिलाकर फर्रुखाबाद में नागरिकता संशोधन बिल को लेकर सब कुछ फिलहाल सामान्य है। 

दूसरी तरफ जीआईसी की तरफ से भी दर्जनों सपाई आ पहुंचे और यहीं सुभाष तिराहे के पास मुख्य मार्ग पर धरना प्रदर्शन शुरू कर दिया। अपर जिलाधिकारी विवेक श्रीवास्तव, एएसपी त्रिभुवन सिंह, एसडीएम सदर अनिल कुमार, सिटी मजिस्ट्रेट रत्न प्रिया समेत भारी पुलिस बल गेट के बाहर ही डट गया। इससे पहले नगर मजिस्ट्रेट जब होटल के निकट ज्ञापन देने पहुंचे तो सपाइयों ने ज्ञापन देने से मना करते हुए धरना स्थल पर अपना प्रदर्शन करने की बात कही। सपा नेता पुष्पेंद्र यादव भी पुलिस से भिड़ गए। इस दौरान डिवाइडर क्रास करने पर पुलिस ने उन्हें रोका तो यहां पर पुलिस की मैगजीन लगने से उनके चोटें आ गईं। उग्र सपाइयों ने पुलिस के खिलाफ भी खूब नारेबाजी की। प्रदेश और केंद्र सरकार पर अपनी भड़ास निकाली। पूर्व मंत्री नरेंद्र सिंह यादव, उनके पुत्र सचिन यादव समेत दर्जनों सपाइयों ने मुख्य मार्ग पर ही धरना दिया और केंद्र सरकार की तानाशाही का कड़ा विरोध किया।

कल की स्थिति को देखते हुए पुलिस प्रशासन ने आज जूलूस और प्रदर्शन को रोकने के लिये कमर कस ली है। बता दें कि नागरिकता कानून के विरोध में प्रदर्शन की आशंका के चलते पूरे प्रदेश में धारा 144 लगाई गई है।

Website Design By Mytesta +91 8809666000

Check Also

अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर विशेष: पांच चुनावी राज्यों में 33% तो छोड़िए 15% भी महिला विधायक नही

🔊 Listen to this @नई दिल्ली शब्द दूत ब्यूरो अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के पूर्व राजनीति …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *