सात फीट से ऊंची कांवर नहीं होगी,कांवरियों को सलाह

3 करोड़ से अधिक कांवर यात्रियों के स्वागत को तैयार उत्तराखण्ड

17 जुलाई से शुरू होने वाली कांवड़ यात्रा के दौरान चार धाम मार्ग परिवर्तित रहेगा। केदारनाथ और बदरीनाथ जाने वाले यात्रियों को मुजफ्फरनगर से बिजनौर, कोटद्वार, पौड़ी, श्रीनगर होकर जाना होगा, जबकि यमुनोत्री और गंगोत्री जाने वाले श्रद्धालुओं को सहारनपुर से विकासनगर रूट का प्रयोग करना पड़ेगा।

कांवड़ यात्रा के दौरान हरिद्वार क्षेत्र में डीजे बजाने और जुगाड़ वाहनों पर पूरी तरह प्रतिबंधित रहेगा। अवांछनीय तत्वों की धरपकड़ के लिए यूपी और हिमाचल की सीमाओं पर संयुक्त सघन चेकिंग अभियान चलाया जाएगा।

हरिद्वार के एसएसपी जन्मेजय प्रभाकर खंडूडी ने बताया कि 15-20 वर्षों से प्रत्येक वर्ष कांवड़ियों की संख्या में भारी वृद्धि हो रही है। 2011 में कांवाडियों की संख्या 1.5 करोड़ के करीब थी। 2019 में लगभग तीन करोड़ कांवड़ियों के आने की संभावना है।

कांवड़ यात्रा को सकुशल संपन्न कराने के लिए मंगलवार को दून की ऑफिसर्स कॉलोनी के सभागार में पुलिस महानिदेशक अनिल कुमार रतूड़ी की अध्यक्षता में यूपी, हरियाणा, हिमाचल, दिल्ली और पंजाब पुलिस के अधिकारियों की बैठक में मंथन हुआ।

विज्ञापन

कांवड़ यात्रा की व्यवस्था में लगे सभी नोडल अधिकारियों का व्हाट्सएप ग्रुप बनाने, अंतरराज्यीय बैरियरों पर संयुक्त पुलिस चेकिंग करने, यात्रा रूट पर लगने वाले लंगरों को निश्चित स्थान पर लगाने, कांवड़ियों के डीजे, लाठी-डंडों पर नियंत्रित करने, सोशल मीडिया पर भेजे जाने वाले संदेशों की निगरानी रखने आदि पर चर्चा हुई।

डीजीपी रतूड़ी ने कहा कि बैठक का उद्देश्य कांवड़ यात्रा के दौरान उत्तर प्रदेश, हिमाचल, हरियाणा, दिल्ली और दूसरी एजेंसियाें की पारस्परिक सहयोग से शांति और कानून व्यवस्था बनाए रखना है। कांवड़ यात्रा के दौरान अवांछनीय तत्व सांप्रदायिक सौहार्द बिगाड़ सकते हैं।

पुलिस महानिदेशक कानून व्यवस्था अशोक कुमार ने कांवड़ यात्रा के दौरान चार धाम, मसूरी एवं देहरादून आने वाले यात्रियों के लिए हरिद्वार से हटकर तैयार रूट के प्रचार पर बल दिया।

बैठक में अपर पुलिस महानिदेशक प्रशासन वी विनय कुमार, सहारनपुर रेंज के आईजी शरद सचान, करनाल रेंज के आईजी योगेंद्र सिंह नेहरा, एसएसबी के महानिरीक्षक श्याम सुंदर चतुर्वेदी, आरपीएफ के आईजी संजय सांस्कृतायन, आईजी संजय गुंज्याल, आईजी कानून व्यवस्था दीपम सेठ, आईजी गढ़वाल अजय रौतेला, दिल्ली पुलिस के एडिशनल सीपी एसएन मोसोबी, पंजाब के पुलिस उप महानिरीक्षक अपराध एवं कानून व्यवस्था गुरप्रीत सिंह गिल, सिरमौर के पुलिस अधीक्षक अजय कृष्ण शर्मा आदि अधिकारी मौजूद थे। संचालन एसपी प्रीति प्रियदर्शनी ने किया।

इन बिंदुओं पर बनी सहमति
– कांवड़ यात्रा के दौरान जुगाड़ वाहनों पर पूर्णत: प्रतिबंध।
– कांवड़ियों को नहर पटरी मार्ग के प्रयोग को प्रोत्साहित करने।
– कांवड़ियों के पहचान पत्र को अनिवार्य रूप से लागू करने।
– सात फीट से ऊंची कांवड़ न लेकर चले।
– ट्रेन की छतों पर यात्रा न करने को लेकर प्रचार करेंगे।

यहां होगी चेकिंग
– चिड़ियापुर बैरियर, नारसन चैक पोस्ट, लखनौता चैक पोस्ट, काली नदी बैरियर और गोवर्धन चैक पोस्ट पर संयुक्त चेकिंग।
– नेपाल और चीन सीमा के संदर्भ में पुलिस संगठनों, सुरक्षा एजेंसियों के मध्य सूचनाओं के आदान प्रदान करने और महत्वपूर्ण पुलों आदि की सुरक्षा।

Website Design By Mytesta +91 8809666000

Check Also

बिल नहीं चुकाया तो ऑपरेशन के बाद बिना टांके लगाए खुला छोड़ा पेट, मासूम की मौत

🔊 Listen to this @शब्द दूत ब्यूरो उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में एक निजी अस्पताल …