Breaking News

शोले के ठाकुर आज भी जिंदा हैं सभी के जहन में

नीरज डंगवाल

बॉलीवुड के मशहूर अभिनेता संजीव कुमार की आज यानि की 6 नवबंर को पुण्यतिथी है। आज ही के दिन ‘शोले’ के ठाकुर ने इस दुनिया को कहा था अलविदा..भारतीय फिल्म उद्योग में बहुआयामी कलाकारों की कमी नहीं है। अगर हम सेवेंटीज की बात करें तो अमिताभ बच्चन, धर्मेन्द्र और राजेश खन्ना के अलावा एक कलाकार ऐसा भी था जिसने अपने दमदार अभिनय की बदौलत हर स्तर के अभिनय को संवारा और उसे एक नया रूप दिया। यहां हम बात कर रहे हैं संजीव कुमार की..!

संजीव कुमार ऐसे अभिनेता थे जिन्होंने सिनेमा के हर रंग से खुद को सरोबोर किया। वह एक प्रयोगधर्मी अभिनेता थे और अलग-अलग भूमिकाएं करने में विश्वास रखते थे। उन्होंने खुद को कभी किसी खास खांचे में फिट नहीं किया बल्कि अपने किरदारों के साथ प्रयोग करते रहे। संजीव ने पर्दे पर नायक का भी रोल अदा किया तो खलनायक का भी। इतना ही नहीं फिल्म ‘आंधी’ में जवान होने के बावजूद निभाया गया उनके बूढ़े व्यक्ति के किरदार को भला हिंदी सिने प्रेमी कैसे भुला सकते है। संजीव कुमार की खासियत यह थी कि वह किसी फिल्म को किसी भी रूप में अपनाकर उसे जीवंत बना देते थे।

शोले में ठाकुर की भूमिका को कौन भूल सकता है। इसमें संजीव कुमार एक अपाहिज की भूमिका में हैं जो रोल के हिसाब से ज्यादा प्रसांगिक नहीं है लेकिन उन्होंने जिस तरह रोल में जान फूंका वह कई सालों के लिए यादगार बन गया। संजीव कुमार को एक ऐसे बहुआयामी कलाकार के तौर पर जाना जाता है जिन्होंने नायक सहनायक , खलनायक और चरित्र कलाकार भूमिकाओं से दर्शको को अपना दीवाना बनाया। संजीव कुमार हिंदी फिल्मों के ऐसे प्रसिद्ध अभिनेता हैं जिनकी अदाकारी की खूशबू से हिंदी फिल्म जगत हमेशा महकता रहेगा. शोले’ का ठाकुर, ‘अंगूर’ का डबल रोल, ‘कोशिश’ का गूँगा-बहरा व्यक्ति, ‘नया दिन नई रात’ के नौ रोल और ‘संघर्ष’ में दिलीप कुमार को टक्कर देने वाली भूमिका निभाने वाले संजीव कुमार लोगों की यादों में अभी भी ताजा हैं।

कहते है कि जिसके पास दौलत हो उसे सब मिल जाता है, मगर ऐसा सच मे नही होता , दौलत होने के बाद भी कुछ लोगो को कभी प्यार नही मिल पाता….ऐसा ही एक महान अदाकार थे संजीव कुमार …. जिनके पास सब कुछ था मगर कभी प्यार नही ..संजीव को इस दुनिया से विदा लिए हुए, लेकिन प्रशंसकों के जेहन में वे अभी भी बसे हुए हैं। संजीव कुमार बहुत बड़े स्टार नहीं थे, लेकिन कलाकार के रूप में उनकी प्रतिभा पर किसी को शक नहीं था। अपने पीछे वे ढेर सारी ऐसी फिल्में छोड़ गए, जिन्हें देख लोग उन्हें याद करते हैं।मिल सका ..9 जुलाई 1938 को जन्मे संजीव कुमार का वास्तविक नाम था हरिहर जरीवाला।

अभिनय का शौक उन्हें फिल्मों में खींच लाया, लेकिन उनका सफर आसान नहीं था। ‘हम हिन्दुस्तानी’ में उन्हें दो मिनट की छोटी-सी भूमिका निभाने को मिली। संजीव कुमार के दौर में राजेश खन्ना, अमिताभ बच्चन, धर्मेन्द्र, शम्मी कपूर, दिलीप कुमार जैसे अभिनेता छाए हुए थे, लेकिन अपने सशक्त अभिनय से उन्होंने अपना स्थान बनाया। उन्होंने नया दिन नयी रात फिल्म में नौ रोल किये थे। कोशिश फिल्म में उन्होंने गूंगे बहरे व्यक्ति का शानदार अभिनय किया था। शोले फिल्म में ठाकुर का चरित्र उनके अभिनय से अमर हो गया। मात्र 47 वर्ष की आयु में 6 नवंबर 1985 को वे इस दुनिया को अलविदा कह गए।

संजीव कुमार हिन्दी फिल्मों के एक प्रसिद्ध अभिनेता हैं । महान कलाकार हरिहर जरीवाल उर्फ संजीव कुमार का नाम फिल्मजगत की आकाशगंगा में एक ऐसे धुव्रतारे की तरह याद किया जाता है जिनके बेमिसाल अभिनय से सुसज्जित फिल्मों की रोशनी से बॉलीवुड हमेशा जगमगाता रहेगा….एक श्रधांजलि: संजीव कुमार हिंदी फिल्मों के ऐसे प्रसिद्ध अभिनेता हैं जिनकी अदाकारी की खूशबू से हिंदी फिल्म जगत हमेशा महकता रहेगा।

Website Design By Mytesta +91 8809666000

Check Also

पत्नी के कोरोना पॉजिटिव आने के बाद केजरीवाल ने खुद को क्वांरटीन किया

🔊 Listen to this दिल्ली।   मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल अपनी पत्नी सुनीता केजरीवाल  की कोरोना रिपोर्ट …