मिसाल: रेलवे पटरी की मरम्मत करने वाले गैंगमैन से एक आईपीएस अफसर बनने तक का सफ़र

@शब्द दूत ब्यूरो

कहते हैं कठिन मेहनत और कभी न हार मानने वाले जज़्बे से इस दुनिया की कोई भी मंज़िल फ़तह की जा सकती है। ये कहानी एक ऐसे शख्स की है, जिन्होंने न सिर्फ अभूतपूर्व सफलता हासिल की है बल्कि औरों के लिए भी प्रेरणा की मिसाल बने। जानिए कैसे एक ग्रामीण पृष्ठभूमि के किसान का बेटा उस मुक़ाम तक पहुंचा, जहां पर्याप्त संसाधनों के बावजूद भी लोग नहीं पहुंच पाते।

राजस्थान के प्रह्लाद मीणा एक ग़रीब किसान परिवार में पैदा हुए। परिवार के भरण-पोषण के लिए उनके माता-पिता इलाके के जमींदारों के घर काम किया करते थे। प्रह्लाद जिस परिवेश से आते हैं, वहां शिक्षा किस चिड़िया का नाम है, कोई नहीं जानता। लेकिन पढ़ाई में दिलचस्पी रखने वाले मीणा के माता-पिता नहीं चाहते थे कि उनके बच्चे भी मजदूरी कर अपना जीवन-यापन करें।

संघर्ष के दिनों को याद करते हुए प्रह्लाद कहते हैं “10 वीं कक्षा का परिणाम आया तो मुझे स्कूल में पहला स्थान मिला। फिर लोगों ने मुझे साइंस विषय लेने के सुझाव दिए। सपना इंजीनियर बनने का था। लेकिन परिवार वालों की स्थिति ऐसी नहीं थी कि वह मुझे आगे पढ़ा सके।”

दुर्भाग्य से साइंस विषय में आगे की पढ़ाई के लिए उनके गांव के के आस-पास कोई स्कूल भी नहीं था। अपने सपनों को भुला कर उन्होंने मानविकी विषयों के साथ आगे की पढ़ाई करने का निश्चय किया। समय के साथ उन्होंने जीवन में अपनी प्राथमिकताओं को बदल दिया। अभी भी उनके सामने सबसे बड़ी चुनौती आर्थिक हालात थे।

वे बताते हैं कि जब वे बारहवीं कक्षा में थे, तब उनके गांव से एक लड़के का चयन भारतीय रेलवे में गैंगमैन के लिए हुआ था। उसी समय उन्होंने अपना लक्ष्य गैंगमैन बनने का बना लिया और तैयारी में लग गए। बीए द्वितीय वर्ष में उनका चयन भारतीय रेलवे के भुवनेश्वर बोर्ड में गैंगमैन के पद पर हो गया है। यहां जॉब के दौरान ही उन्होंने कर्मचारी चयन आयोग द्वारा आयोजित होने वाली संयुक्त स्नातक स्तरीय परीक्षा में बैठने का फैसला किया और उन्हें रेल मंत्रालय के सहायक अनुभाग अधिकारी के पद पर नियुक्ति मिली। वे बताते हैं कि अब दिल्ली से मैं घर की सभी जिम्मेदारियों को बखूबी निभा रहा था और साथ ही मैंने सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी भी शुरू कर दी।

यूपीएससी परीक्षा में सफलता का परचम लहराना कोई साधारण काम नहीं था। उन्हें कई बार असफल होना पड़ा लेकिन हार न मानते हुए उन्होंने संघर्ष को जारी रखा। उन्हें वर्ष 2013 और 2014 में मुख्य परीक्षा देने का अवसर मिला। वर्ष 2015 में प्रिलिमनरी परीक्षा में सफलता नहीं मिली तो उस वर्ष उन्होंने वैकल्पिक विषय हिंदी साहित्य को अच्छे से तैयार किया और 2016 के प्रयास में सिविल सेवा परीक्षा में सफलता प्राप्त की। वर्तमान में वे भारतीय पुलिस सेवा में ओडिशा कैडर के 2017 बैच के अधिकारी हैं।

उनका मानना है कि उनकी सफलता ग्रामीण क्षेत्र से आने वाले बच्चों में भी आत्मविश्वास का संचार करेगी। यक़ीनन उनकी सफलता देश के करोड़ों नौजवानों के लिए प्रेरणादायक है जो परिस्थितियों के तले दबकर अपने सपनों का त्याग कर देते हैं।

Website Design By Mytesta +91 8809666000

Check Also

ब्रेकिंग :पंजाब कांग्रेस की कलह बढ़ी, हाईकमान ने मांगा सीएम अमरिंदर सिंह का इस्तीफा, सिद्धू को सौंपी जा सकती है कमान

🔊 Listen to this @नई दिल्ली शब्द दूत ब्यूरो (18 सिंतबर 2021) पंजाब में कांग्रेस …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *