भारत रुस को देगा 1 अरब डॉलर का ऋण – मोदी

व्लादिवोस्तोक। रूस के व्लादिवोस्तोक में 5वें पूर्वी आर्थिक मंच (ईईएफ) के पूर्ण सत्र को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि आज इस मंच पर हमारे विचार मंथन से न केवल सुदूर पूर्व बल्कि पूरी मानव जाति के मानव कल्याण के प्रयासों को बल मिलेगा।

उन्होंने कहा कि भारत और पूर्वी देशों का संबंध नया नहीं है, बल्कि पुराना है। भारत एक ऐसा देश है जिसने व्लादिवोस्तोक में अपना वाणिज्य दूतावास खोला। सोवियत रूस के दौरान भी जब अन्य विदेशियों पर प्रतिबंध था, व्लादिवोस्तोक भारतीयों के लिए खुला था। प्रधानमंत्री मोदी ने राष्ट्रपति पुतिन के साथ स्ट्रीट ऑफ दि फार ईस्ट इग्जिबिशन भी देखी।

प्रधानमंत्री ने कहा कि उन्हें पूर्ण विश्वास है कि इस मंच पर दोनों देशों का विचार मंथन न केवल मानव कल्याण के प्रयासों को मजबूत करेगा, बल्कि संपूर्ण मानव जाति को भी प्रभावित करेगा।

प्रधानमंत्री ने कहा कि सुदूर पूर्व के विकास के लिए भारत एक अरब डॉलर (72 हजार करोड़) का ऋण देगा। भारत सरकार ने ‘एक्ट ईस्ट’ योजना के तहत सक्रिय रूप से पूर्वी एशिया को शामिल किया है। यह भारत की आर्थिक कूटनीति को भी एक नया आयाम देगा।

प्रधानमंत्री ने कहा कि हम ‘सबका साथ सबका विकास’ मंत्र पर नए भारत का निर्माण कर रहे हैं। हम 2024 तक पांच ट्रिलियन डॉलर अर्थव्यवस्था का लक्ष्य बना रहे हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पूर्वी आर्थिक मंच में इंडिया बिजनेस पवेलियन का दौरा किया है। इस बीच उन्होंने इंडो-रशियन इनोवेशन ब्रिज का भी उद्धाटन किया।

Website Design By Mytesta +91 8809666000

Check Also

दुखद:महान एथलीट मिल्खा सिंह का निधन, कोरोना से हारे जिंदगी की जंग

🔊 Listen to this चंडीगढ़ ।  महान एथलीट मिल्खा सिंह का बीती रात कोरोना से …