दुखद :पत्नी और बच्चों की हत्या के बाद की खुदकुशी, दीवार पर लिखा मिला सुसाइड नोट

मृतकों के फाइल फोटो

गाजियाबाद। पत्नी और दो बच्चों की हत्या करने के बाद पति ने खुद भी आत्महत्या कर ली। इससे पूर्व उसने दीवार पर पेन से सुसाइड नोट भी लिख दिया। गाजियाबाद के एक मकान से चार शव मिलने का सनसनीखेज़ मामला आया है।

यहाँ अर्थला की संजय कॉलोनी में एक मकान से ये चार शव मिले हैं। मकान के एक कमरे में में पति का शव फांसी पर लटका मिला तो दूसरे कमरे में दोनों बच्चों औ पत्नी का शव बिस्तर पर पड़ा था। प्रथम दृष्टि में समझा जा रहा है कि पति ने बच्चों और पत्नी को मारने के बाद खुदकुशी की है। दीवार पर लिखे सुसाइड नोट में घरेलू कलह और पत्नी के शराब पीने का जिक्र है।

जानकारी के अनुसार साहिबाबाद थाना क्षेत्र की संजय कॉलोनी में धीरज त्यागी (27), पत्नी काजल (25) औरदो बच्चों एकता (4) व ध्रुव (2) के साथ रहते थे। धीरज मूल रूप से बिजनौर के नया गांव का निवासी था और यहां रहने  फेब्रिकेशन का बिजनेस करता था ।

बिजनौर निवासी भीम भी धीरज के साथ काम करता है। आज भीम और धीरज को किसी काम से जाना था। इसलिए भीम जब लेने घर पहुंचा तो दरवाजा अंदर से बंद था। काफी आवाज देने के बाद भी दरवाजा नहीं खोला गया। भीम ने खिड़की से देखा तो धीरज का शव पंखे से लटक रहा था। उसने तुरंत लोगों को और पुलिस को मामले की सूचना दी। 

सूचना मिलते ही पहुंची पुलिस ने दरवाजा खोलकर अंदर देखा तो सन्न रह गयी वहााँ धीरज ही नहीं, दोनों बच्चों और पत्नी की भी लाश पड़ी थी।  दीवार पर सुसाइड नोट लिखा था। हैंड राइटिंग धीरज की बताई जा रही है। 

 

दीवार पर लिखा सुसाइड नोट

दीवार पर पेन से सुसाइड नोट लिखा गया था। लिखा था- धीरज काजल से बहुत प्यार करता था। लेकिन काजल लड़कों से फोन पर बात करती थी। इस बात के लिए उसे काफी समझाया था। काजल शराब भी पीती थी। इस पूरी कहानी की वजह काजल के भाई हैं। अंकित, टीकेंद्र, बबली। धीरज ने उन नंबरों को भी दीवार पर लिखा था, जिनसे काजल पर बात करने का आरोप है।

एसपी मनीष मिश्रा ने बताया कि फॉरेंसिक टीम ने हैंडराइटिंग के अलावा अन्य साक्ष्य जुटाए हैं। महिला व उसके बच्चों की मौत किस तरह की गई है, इसकी पुष्टि पोस्टमाॅर्टम रिपोर्ट में हो पाएगी। शुरूआती जांच में माना जा रहा है कि बच्चों और पत्नी को जहर देकर मारने के बाद पति ने आत्महत्या की है।

Website Design By Mytesta +91 8809666000

Check Also

अब इन कामों के लिए नहीं लगाने होंगे आरटीओ ऑफिस के चक्कर

🔊 Listen to this @नई दिल्ली शब्द दूत ब्यूरो ड्राइविंग लाइसेंस और इससे जुड़ी कई …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *