चार धाम यात्रा :बढ़ती भीड़ से निपटने के लिये नियम परिवर्तन आवश्यक

                     नितेश जोशी 

मैदानी क्षेत्रों में बढ़ते तापमान के चलते हर कोई राहत पाने को उत्तराखंड और हिमांचल की ओर आ रहा है। जिसके चलते उत्तराखंड में व्यवस्था पूरी तरह पटरी से उतर चुकी है। भगवान के दर्शन कम पर्यटन का लुत्फ़ उठाने वालों की भीड़ के कारण स्थानीय जनता को भी कठनाइयों का सामना करना पड़ रहा है।

बद्रीनाथ ओर हेमकुंड यात्रा पर जाने वाले श्रद्धालुओं को सड़कों पर ही रात बितानी पड़ रही है। हालांकि प्रशासन ने यात्रियों के लिए वैकल्पिक व्यवस्था के रूप में जोशीमठ सहित कई स्थानों पर स्कूलों में भी ठहरने की व्यवस्था की है। लेकिन जो यात्री रास्तो में फंसे है। उन्हें इस व्यवस्था का कोई लाभ नही है। हालात ये है कि जोशीमठ ओर उससे पहले के रास्ते मे पड़ने वाले पैट्रॉल पम्पो पर पेट्रोल और डीज़ल के लिए दो-दो दिन तक लाइन में यात्रियों को खड़े रहना पड़ रहा है ।। सभी एटीएम खाली हो चुके हैं, इसलिए पूरी जानकारी प्राप्त करके ही उतराखण्ड आएँ ।।

प्रदेश सरकार द्वारा चार धाम यात्रा में चलने वाले हरियाणा पंजाब दिल्ली के प्राइवेट वाहनों यात्रा में न चलने देने का निर्णय सराहनीय कदम है परंतु चारधाम यात्रा ओर बढ़ती भीड़ को लेकर नियम परिवर्तन अति आवश्यक हो गए है।

Website Design By Mytesta +91 8809666000

Check Also

मोदी ने अपनी असलियत नहीं छिपाई, वह जमीन से जुड़े नेता हैं, कांग्रेस नेता गुलाम नवी आजाद ने की पीएम की तारीफ

🔊 Listen to this जम्मू कश्मीर। हाल ही में राज्य सभा से रिटायर हुये कांग्रेस …