Breaking News

अधिकारियों और छुटभैये नेताओं की मनमानी से एक और हेलिकॉप्टर की क्रैश लैंडिंग

वेद भदोला

उत्तरकाशी में एक और हेलीकॉप्टर की क्रैश लैंडिंग हुई है। इस दुर्घटना के बाद ये सवाल तो उठता ही है कि ऐसी जगहों पर हेलीकॉप्टर क्यों भेजे जा रहे हैं, जहां उनके उड़ने और उतरने के लिए पर्याप्त जगह ही नहीं है।

इधर, प्रदेश और क्षेत्र के छुटभैये नेताओं पर भी उंगली उठ रही है कि वे आपदा प्रबंधन में लगे अधिकारियों पर नाजायज दबाव बना रहे हैं। उधर, प्रशासनिक अधिकारी भी आपदा का फायदा उठाने से नहीं चूक रहे हैं। बताया जा रहा है कि एक प्रशासनिक अधिकारी के दबाव में मोल्डी गांव भेजा गया था हेलीकॉप्टर। जिसकी सूचना आपदा कंट्रोल रूम को भी नहीं थी। जो बाद में रसद उतारकर उड़ा ही था कि सेब की ट्रॉलियों की तारों में उलझकर गिर गया।

दरअसल, उत्तरकाशी जिले की मोरी तहसील का बंगाण का ये इलाका सेब, राजमा और आलू के लिए प्रसिद्ध है। इस क्षेत्र के लोग सीजन में करोड़ों रुपयों के सेब बेचते हैं। मदद के नाम पर बरसात के सीजन में पानी की बोतलें ले जाना सवाल तो खड़े करता ही है। साथ ही इतने समृद्ध इलाके में बांटने के लिए बिस्कुट इत्यादि ले जाना क्या यहां की जनता को दिखाने का षड्यंत्र नहीं ।

Website Design By Mytesta +91 8809666000

Check Also

उत्तराखंड :मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र की लोकप्रियता के आगे जनता ने हरीश रावत को नकारा :मनीष वर्मा

🔊 Listen to this देहरादून । हरदा और तिरदा के बीच गीत संगीत का मुकाबला …