उत्तराखंड के काशीपुर निवासी सुरजीत ने फहराया एवरेस्ट पर तिरंगा

 

काशीपुर । उत्तराखंड के बेटे व काशीपुर के कुंडेश्वरी के आदर्श नगर फेस 2 में रहने वाले सूबेदार वीरेंद्र सिंह रावत के गृह मंत्रालय में इन्स्पेक्टर के पद पर कार्यरत पुत्र सुरजीत सिंह रावत ने विश्व के सबसे ऊंचे पर्वत माउंट एवरेस्ट पर तिरंगा लहराकर प्रदेश का ही नहीं बल्कि देश का नाम भी रोशन किया है।।

बीते माह 21 मई की सुबह चोटी पर पहुंच कर अपना लक्ष्य प्राप्त किया। उनके कल रात काशीपुर पहुंचने पर परिवार सहित उनके करीबी व उनके मित्रों ने उनका स्वागत करते हुए उनके उज्जवल भविष्य की कामना की है। इस मौके पर कुंडेश्वरी के विजयपथ पूर्व सैनिक संगठन के अध्यक्ष ने संगठन की तरफ से सुरजीत के उज्जवल भविष्य की कामना की।
 सुरजीत गृह मंत्रालय में इंस्पेक्टर के पद पर दिल्ली में तैनात हैं। वह सन् 2011 पर्वतारोहण के क्षेत्र से जुड़े हुए हैं। उन्होंने पर्वतारोहण का कोर्स भारत के सबसे प्रतिष्ठित संस्थान सोनम ग्यात्सो माउंटेन रिंग इंस्टीट्यूट गंगतोक से प्राप्त किया है। विश्व की सबसे ऊंची चोटी को पता करने से पहले वह जम्मू कश्मीर और सिक्किम के हिमालय की 7000 फीट से ऊंची चोटियां चढ़ चुके हैं।
 उनके मुताबिक 11 सदस्यीय अखिल भारतीय पुलिस दल का हिस्सा बनकर उन्होंने यह सफलता प्राप्त की है। सुरजीत के सभी रिश्तेदार और मित्र उनकी के सफलता पर बेहद खुश है। उनका परिवार जन उनकी सफलता पर खुद को बेहद गौरवान्वित महसूस कर रहे हैं।
 आज मीडिया के सामने रूबरू होते हुए इसका श्रेय अपने माता-पिता और धर्मपत्नी को दिया। सुरजीत के पिता विरेंद्र सिंह रावत मूलतः गढ़वाल के बीरोंखाल क्षेत्र के देघाट के रहने वाले है। वर्ष 2014 में सुरजीत के पिता सूबेदार वीरेंद्र सिंह रावत ने काशीपुर अपना आवास बना लिया। तभी से उनका परिवार कुंडेश्वरी स्थित आदर्श नगर के फेस टू में रह रहा है। सुरजीत सूबेदार विजेंद्र सिंह रावत के इकलौते पुत्र हैं।

 

Website Design By Mytesta +91 8809666000

Check Also

खट्टर सरकार से समर्थन वापस लेने वाले निर्दलीय विधायक के 30 ठिकानों पर इनकम टैक्स का छापा

🔊 Listen to this @शब्द दूत ब्यूरो आयकर विभाग ने हरियाणा के महम से निर्दलीय विधायक …