Breaking News

ई वी एम में दिलचस्पी के चलते निशाना बने लवासा

नई दिल्ली। पूर्व नौकरशाह के गोपीनाथन चुनाव आयुक्त अशोक लवासा के समर्थन में उतर आए हैं। गोपीनाथन ने कहा कि लवासा को सरकार इसलिए निशाना बना रही है क्योंकि उन्होंने ईवीएम-वीवीपैट में खामियां ढूंढने में दिलचस्पी दिखाई थी। बता दें कि पूर्व आईएएस अफसर खुद भी ईवीएम पर सवाल उठा चुके हैं। सितंबर में उन्होंने आरोप लगाया था कि पेपर ऑडिट ट्रेल मशीनों की वजह से ईवीएम से छेड़छाड़ का खतरा है।

गोपीनाथन ने इस साल अगस्त में अपने पद से इस्तीफा दे दिया था। वह दमन और दीव, दादर और नगर हवेली केंद्र शासित प्रदेशों के पावर डिपार्टमेंट में अपनी सेवाएं दे चुके हैं। इस्तीफा देने के बाद गोपीनाथन ने दावा किया था कि वह कश्मीर में अभिव्यक्ति की आजादी पर पाबंदी के खिलाफ अपने विचार रखना चाहते थे। हालांकि, अपने इस्तीफे में उन्होंने कश्मीर का कोई जिक्र नहीं किया था। गोपीनाथन उस वक्त भी सुर्खियों में आ गए थे, जब वह अपनी पहचान छिपाकर 2018 में केरल में आई बाढ़ के बाद राहत कार्यों में शामिल हुए थे।

सूत्रों के अनुसार विद्युत मंत्रालय ने अपने सभी पीएसयू के चीफ विजिलेंस ऑफिसरों को यह पता लगाने का आदेश दिया था कि कहीं लवासा के विद्युत मंत्रालय में 2009 से लेकर 2013 के कार्यकाल के दौरान कुछ कंपनियों को फायदा तो नहीं पहुंचाया गया। मंत्रालय के लेटर में कुछ कंपनियों का भी जिक्र था, जिनमें लवासा की पत्नी नोवल ने बतौर डायरेक्टर सेवाएं दी हैं। बता दें कि इससे पहले, लवासा की पत्नी, बेटे और बहन को आय से अधिक संपत्ति और इनकम घोषित न करने के आरोपों में नोटिस भेज चुका है।

बता दें कि लवासा वही अफसर हैं, जिन्होंने लोकसभा चुनाव में मॉडल कोड ऑफ कंडक्ट के उल्लंघन को लेकर पीएम नरेंद्र मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह को ईसी की ओर से दी गई क्लीनिट का विरोध किया था। लवासा मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा के बाद दूसरे सबसे सीनियर चुनाव आयुक्त हैं।

Website Design By Mytesta +91 8809666000

Check Also

दुखद काशीपुर :युवा कांग्रेस नेता शिवम शर्मा के पिता समाजसेवी व पत्रकार दीपक शर्मा का निधन, शब्द दूत परिवार के वरिष्ठ सदस्य थे, श्रद्धांजलि

🔊 Listen to this काशीपुर । पत्रकार व समाजसेवी तथा युवा कांग्रेस नेता शिवम शर्मा …